नई दिल्ली / नया मोटर वाहन कानून लागू होने के बाद दिल्ली के ट्रैफिक में आया सुधार: सीएम

NDTV : Sep 13, 2019, 04:06 PM

नई दिल्ली: केंद्र की नरेंद्र मोदी सरकार (Narendra Modi Government) द्वारा लागू किए संशोधित मोटर व्हीकल एक्ट (Revised Motor Vehicle Act) में लगाई गई जुर्माने की 'बड़ी' रकम का भले ही भारतीय जनता पार्टी (BJP) शासित कुछ राज्य ही विरोध कर रहे हों, लेकिन इसका साथ दिया दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल (Arvind Kejriwal) ने, जिन्होंने कहा कि नए नियमों की वजह से राष्ट्रीय राजधानी में ट्रैफिक के हालात बहुत सुधर गए हैं. वैसे, उन्होंने यह भी कहा कि अगर लोगों को इससे दिक्कतें होंगी, और राज्य सरकार के पास जुर्माने की रकम को कम करने का अधिकार होगा, तो वह ज़रूर करेंगे.

दिल्ली में प्रदूषण के स्तर को कम करने के लिए नवंबर माह में ऑड-ईवन योजना (Odd-Even Scheme) को एक बार फिर लागू करने की घोषणा करते हुए अरविंद केजरीवाल ने पत्रकारों से कहा, "जब से नया मोटर व्हीकल एक्ट लागू हुआ है, दिल्ली के ट्रैफिक में सुधार हुआ है..."

आम आदमी पार्टी (AAP) के मुखिया ने कहा, "अगर कोई नियम ऐसा हुआ, जिससे लोगों को ज़्यादा समस्याओं का सामना करना पड़ रहा होगा, और हम लोगों के पास जुर्माने को घटाने का अधिकार होगा, तो हम ऐसा ज़रूर करेंगे..."

कई राज्यों ने संशोधित मोटर व्हीकल एक्ट का विरोध किया है, और जुर्माने की बढ़ी रकमों को लागू करने से इंकार कर दिया है. BJP-शासित गुजरात (Gujarat) देश का पहला राज्य रहा, जिसने जुर्माने की रकमों को घटाया, और कुछ नियमों के तहत नए कानून में लगाए गए जुर्माने को 90 फीसदी तक कम कर दिया.

महाराष्ट्र (Maharashtra), गोवा (Goa) तथा कर्नाटक (Karnataka) जैसे अन्य BJP-शासित प्रदेशों ने भी घोषणा कर दी है कि यदि केंद्र सरकार ने नए नियमों पर पुनर्विचार नहीं किया, तो वे भी गुजरात जैसा कदम उठा सकते हैं. विपक्षी दलों द्वारा शासित मध्य प्रदेश (Madhya Pradesh) और केरल (Kerala) जैसे राज्यों ने भी जुर्माने की बढ़ी रकमों को लागू करने से इंकार कर दिया है. पश्चिम बंगाल (West Bengal) की मुख्यमंत्री ममता बनर्जी (Mamata Banerjee) ने भी नए नियमों को 'बेहद कड़ा' करार देते हुए खारिज कर दिया है.

नया मोटर व्हीकल एक्ट लागू होने के बाद से जुर्मानों की बड़ी-बड़ी रकमें सुर्खियां बनती रही हैं. भुवनेश्वर में एक ऑटोरिक्शा ड्राइवर पर 47,500 रुपये का जुर्माना लगाया गया, जबकि दिल्ली में एक ट्रक पर दो लाख रुपये से ज़्यादा रकम का जुर्माना लगाया गया. दिल्ली के एक निवासी ने तो जुर्माना लगाए जाने के बाद अपनी मोटरसाइकिल को ही आग की लपटों के हवाले कर दिया था.