बिजनेस / अपेक्स बैंक : 16 हजार 359 करोड़ का बजट स्वीकृत, 10.67 करोड़ लाभांश देगा सदस्यों को

Zoom News : Sep 27, 2019, 06:42 PM
जयपुर । दि राजस्थान स्टेट को-ऑपरेटिव बैंक लि., जयपुर (अपेक्स बैंक) वर्ष 2018-19 के लिए अपने सदस्यों को 10 करोड़ 67 लाख 35 हजार 556 रुपये का लाभांश वितरित करेगा। बैंक द्वारा वर्ष 2018-19 की अवधि में 53 करोड़ 37 लाख रुपये का शद्ध लाभ अर्जित किया है। बैंक के इतिहास में यह पहली बार है कि बैंक अपने शुद्ध लाभ के अधिकतम 20 प्रतिशत राशि को लाभांश के रूप में वितरित कर रहा है। प्रशासक, अपेक्स बैंक ने साधारण सभा के सम्मुख संस्था के वर्ष 2019-20 की अवधि के लिये 16359.41 करोड़ रुपये में बजट का प्रस्ताव रखा, जिसका सर्वसम्मति से अनुमोदन किया गया।

अपेक्स बैंक के प्रशासक एवं प्रमुख शासन सचिव, सहकारिता श्री नरेश पाल गंगवार ने शुक्रवार को यह घोषणा अपेक्स बैंक की 63वीं साधारण सभा में की। उन्होंने बताया कि सभी जिला केन्द्रीय सहकारी बैंकों द्वारा राजस्थान फसली ऋण माफी योजना, 2019 के तहत् एकजुट होकर कार्य किया है। उन्होंने कहा कि इसी कारण प्रदेश की पैक्स/लेम्पस् में शिविरों का आयोजन कर पात्र किसानों को पारदर्शी ढंग से ऋण माफी प्रमाण पत्र जारी किये गये हैं।

गंगवार ने बताया कि देश में पहली बार राजस्थान राज्य में किसानों को फसली ऋण वितरण में स्थानीय विवेकाधीनता को समाप्त कर इसे एकरूपी, पारदर्शी एवं सुव्यवस्थित बनाने के उद्देश्य से सहकारी फसली ऋण ऑनलाइन पंजीयन एवं वितरण योजना, 2019 को सफलतापूर्वक लागू किया है। उन्होंने बताया कि अबतक चालू खरीफ सीजन में 21 लाख किसानों द्वारा इस योजना के तहत जोड़ा जा चुका है। अपेक्स बैंक अपने उपभोक्ताओं को शीघ्र ही इण्टरनेट बैंकिंग एवं मोबाइल बैंकिंग की सुविधा उपलब्ध करायेगा। इसके लिये भारतीय रिजर्व बैंक की स्वीकृति प्राप्त हो गई है तथा बैंक स्तर से आवश्यक तैयारियां की जा रही हैं।

प्रशासक, अपेक्स बैंक ने बताया कि फसली ऋण वितरण से लेकर नाबार्ड से पुनर्वित्त की प्रक्रिया को ऑनलाइन किया जायेगा ताकि किसानों को समय पर एवं उनकी मांग के अनुसार ऋण वितरण के लिये आवश्यक वित्तीय संसाधन उपलब्ध हो सके। उन्होंने कहा कि बैंक को बाजार की मांग एवं बदलती वित्तीय परिस्थितियों में प्रतिस्पर्धी बनाये रखने के लिये नवाचार अपनाने की जरूरत है और इसके लिये निरन्तर प्रयास किये जाने चाहिये।

रजिस्ट्रार, सहकारिता डॉ. नीरज के. पवन ने बताया कि इस वर्ष महात्मा गांधी जी की 150वीं जयन्ती के अवसर पर सहकारिता के क्षेत्र में एक अभिनव शुरूआत करने जा रहे हैं। इस अवसर पर प्रदेश के ग्रामीण क्षेत्र में 6500 ग्राम सेवा सहकारी समितियों में शेष 4649 ग्राम सेवा सहकारी समितियों पर ई-मित्र केन्द्र की सेवायें मिलना प्रारम्भ हो जायेंगी। उन्होंने बताया कि राज्य की पैक्स/लैम्पस पर ई-मित्र केन्द्र की शुरूआत से 400 से अधिक सेवायें आमजन को मिल पायेंगी, जो सहकारिता के द्वारा निश्चित तौर पर लोगों के कल्याण की दिशा में मजबूत पहल साबित होगी।

पवन ने कहा कि यह सहकारी विभाग के अधिकारियों के साथ-साथ जिला केन्द्रीय सहकारी बैंकों के अध्यक्षों एवं प्रशासकों का दायित्व है कि वे अपने कार्यक्षेत्र में 2 अक्टूबर को सभी पैक्स/लैम्पस में विशेष आमसभाओं का आयोजन सुनिश्चित करें और इन आमसभाओं में ई-मित्र केन्द्रों पर मिलने वाली सुविधाओं और उनके शुल्क की पूरी जानकारी साझा की जाये। उन्होंने कहा कि पैक्स/लैम्पस में ई-मित्र केन्द्रों की शुरूआत से इन संस्थाओं की वित्तीय लाभ में वृद्धि होगी और राज्य सरकार की योजनाओं की जानकारी मिलने से ग्रामीण क्षेत्र में एक नया बदलाव देखने को मिलेगा।

अपेक्स बैंक के प्रबन्ध निदेशक इन्दर सिंह ने प्रशासक की अनुमति से आमसभा के समक्ष बिन्दुवार एजेण्डा रखा और विचारणीय विषयों के साथ भावी कार्यक्रमों की रूपरेखा प्रस्तुत की। उन्होंने आमसभा के समक्ष वर्ष 2017-18 की साधारण सभा की कार्यवाही विवरण, वर्ष 2018-19 के अन्तिम लेखे तथा वर्ष 2019-20 अवधि के लिये प्रस्तावित बजट का विवरण प्रस्तुत किया। साधारण सभा में उपस्थित सभी सदस्यों ने सर्वसम्मति से अनुमोदन किया।

साधारण सभा में राजफैड प्रबन्ध निदेशक राजफैड श्रीमती सुषमा अरोड़ा, भरतपुर केन्द्रीय सहकारी बैंक के अध्यक्ष भीमसिंह, जोधपुर की श्रीमती लीला मदेरणा, अजमेर के मदन गोपाल चैधरी, चुरू के पूर्णाराम गिल, पाली के पुष्पेन्द्र सिंह कुडकी, चितौड़गढ़ के लक्ष्मण सिंह खोर, डूंगरपुर के बद्री नारायण शर्मा, बीकानेर के भागीरथ ज्याणी एवं बुनकर संघ के अध्यक्ष पवन सारस्वत उपस्थित थे।

बैठक में जयपुर केन्द्रीय सहकारी बैंक के प्रशासक जगरूप सिंह यादव, दौसा के अविचल चतुर्वेदी, अलवर के इन्द्रजीत सिंह, नागौर के दिनेश कुमार यादव, गंगानगर के एन. शिवप्रसाद मदन, टोंक के के. के. शर्मा, संयुक्त शासन सचिव(वित्त) मेवा राम जाट एवं सहकारिता विभाग व अपेक्स बैंक के संबंधित अधिकारी उपस्थित थे।