नई दिल्ली / जिस वक्त एम्स में आग के बाद मची थी अफरातफरी, कुछ डॉक्टर्स जुटे थे इस काम में

Live Hindustan : Aug 18, 2019, 06:52 PM

दिल्ली के ऑल इंडिया इंस्टीट्यूट ऑफ मेडिकल साइंसेज (एम्स) में शनिवार की शाम को आग भीषण आग लगने के बाद अफरातफरी का माहौल था। भीषण आग दूर से देखी जा सकती है। इसे बुझाने में दमकल की कई गाड़ियां लगाई गई थी और इमरजेंसी वॉर्ड से साथ ही अन्य वॉर्ड से मरीजों को जल्दबाजी में शिफ्ट किया जा रहा था। इस दौरान उन मरीजों को भी शिफ्ट किया जा रहा था जो वेंटिलेटर पर थे।

लेकिन, इन सबके बीच कुछ डॉक्टरों की टीम एक डिलीवरी केस में लगी थी। जिसके बाद सफलतापूर्वक बच्ची पैदा हुई।

गौरतलब है कि एम्स में शनिवार को जब धुएं का गुबार ऊपर ऑपरेशन थियेटर की तरफ बढ़ने लगा तो वहां से भी मरीजों को बाहर निकाला गया। आपातकालीन विभाग और चिकित्सा प्रयोगशाला को तत्काल बंद कर दिया गया। वार्ड नंबर एबी-1, एबी-2 और एबी-3 को खाली करा लिया गया। सूत्रों के मुताबिक आग मेडिसिन विभाग से इमरजेंसी लैब तक फैल गई थी जो माइक्रोलॉजी विभाग की वायरोलॉजी यूनिट के ठीक बगल में है। यहां पिछले कुछ समय से बिजली का काम चल रहा था और तार जमा थे।

रसायनों से भड़के शोले :

आग लगने वाली जगह पर माइक्रोबायलाजी की लैब है। इसके रसायन से भी आग भड़की। कई बार बम के धमाके जैसी आवाज सुनाई दी। इससे काबू पाने में दिक्कत आई।

जांच के नमूने खाक :

आग में दूसरे मंजिल पर स्थित माइक्रोबायोलॉजी विभाग की वायरोलॉजी यूनिट पूरी तरह खाक हो गई। जांच के नमूने व मेडिकल रिपोर्ट पूरी तरह बर्बाद हो गए। इससे मरीजों को परेशानी होगी। आग वाली इमारत में दस विभागों के डॉक्टरों के दफ्तर हैं। उनके दस्तावेज भी जल गए हैं।

SUBSCRIBE TO OUR NEWSLETTER