विश्व / ब्रिटिश भारत से ले गए थे $45 लाख करोड़: यूएस में विदेश मंत्री जयशंकर

TimesNow News : Oct 02, 2019, 06:14 PM

वाशिंगटन: विदेश मंत्री एस जयंशकर इन दिनों अमेरिकी दौरे पर हैं। मंगलवार को अमेरिका के वाशिंगटन डीसी में आयोजित अटलांटिक काउंसिल बैठक के दौरान विदेश मंत्री ने कहा कि पश्चिमी देशों के कारण भारत ने 2 शताब्दियां (200 साल) प्रताड़ना झेली। विदेश मंत्री ने कहा, 'एक शिकारी रूप में वे 18 वीं शताब्दी के मध्य में भारत में आए थे। एक आर्थिक अध्ययन के मुताबिक ब्रिटिश भारत से 45 ट्रिलियन डॉलर (वर्तमान के हिसाब से) लेकर गए थे।

संयुक्त राष्ट्र महासभा के सत्र (यूएनजीए) में शामिल होने गए विदेश मंत्री एस जयशंकर ने यूएनजीए के इतर कई देशों के विदेश मंत्रियों से मुलाकात की जिनमें ब्रिक्स देश (ब्राजील, रूस दक्षिण अफ्रीका और चीन, भारत) शामिल हैं।

इससे पहले वाशिंगटन में मीडिया से बात करते हुए विदेश मंत्री ने कहा कि अनुच्छेद 370 को निरस्त किए जाने के बाद ऐसे लोग भारत और पाकिस्तान को ‘‘साथ जोड़ने’’ की कोशिश कर रहे हैं, जिनके दिमाग पर जम्मू-कश्मीर का विशेष राज्य का दर्जा समाप्त करने की बात हावी है। पाकिस्तान का नाम लिए बगैर विदेश मंत्री ने कि जिस देश की अर्थव्यवस्था भारतीय अर्थव्यवस्था के आठवें हिस्से के बराबर हो, उसकी तुलना हिंदुस्तान से कैसै की जा सकती है। उन्होंने कहा कि आर्टिकल 370 को निरस्त करना भारत का अंदरूनी मामला है।

जब विदेश मंत्री से अमेरिका के राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप के मध्यस्थता वाले बयान पर प्रतिक्रिया जाननी चाही तो उन्होनें कहा कि भारत का जो रूख 40 साल पहले था वहीं आज भी है और हम कश्मीर मसले पर किसी भी तीसरे पक्ष की मध्यस्थता स्वीकार नहीं करेंगे। आपको बता दें कि संयुक्त राष्ट्र महासभा सत्र के इतर प्रधानमंत्री और विदेश मंत्री ने कई वैश्विक नेताओं के साथ अलग-अलग मुलाकातें और द्विपक्षीय बैठकें की है।