लाइफस्टाइल / जानें, मच्छरों की संख्‍या कम करने के लिए कौन से मच्‍छर हवा में छोड़े गए हैं

Dainik Jagran : Aug 17, 2019, 06:24 PM

नई दिल्ली। आज दुनिया में मच्छर एक ऐसा जीव बन गया है जिससे इंसानों को सबसे ज्यादा खतरा हो गया है। मच्छर कई तरह की जानलेवा बीमारियां फैलाते हैं। डेंगू, मलेरिया, चिकनगुनिया, स्वाइन फ्लू और ज़ीका जैसी खतरनाक बीमारियों के वायरस मच्छर के ज़रिए ही इंसानों तक पहुंचते हैं।

मच्छरों के शरीर में मौजूद बीमारियों के कीटाणु इनके काटने से ही इंसान में घुसते हैं। इसी वजह से कई बीमारियों को खत्म करने के लिए लंबे समय से मच्छरों को मारने के कई नुस्खे आज़माए जा रहे हैं। हालांकि, इंसान की तमाम कोशिशों के बावजूद डेंगू, मलेरिया और मच्छरों की वजह से होने वाली दूसरी बीमारियां तेज़ी से फैलती जा रही हैं। वर्ल्ड हेल्थ संगठन के आंकड़े बताते हैं कि पिछले पचास सालों में डेंगू की बीमारी तीस गुना ज्यादा बढ़ गई है।

जब मच्छरों को मारने के लिए किया ऐसा प्रयोग

साल 2017 में अक्टूबर के महीने में सिंगापुर में बड़ी तादाद में लोग मच्छरों को मारने के लिए एक जगह जमा हुए। इनमें सरकारी अफसर भी शामिल थे। साथ ही स्थानीय लोग और मीडिया भी मौजूद था। इन सब ने अपने हाथों में मच्छरों से भरे डिब्बे लिए हुए थे।

इसके बाद सबने एक साथ अपने डिब्बे खोले और मच्छरों को हवा में उड़ा दिया। आपको बता दें कि सिंगापुर एक गर्म देश है और यहां आम तौर पर लोग मच्छरों से काफी परेशान रहते हैं। इसलिए सिंगापुर में मच्छरों को इस तरह छोड़ना एक आम नज़ारा नहीं था। वहां के लोगों ने तीन हजार के करीब मच्छर हवा में छोड़े।

ये थी वजह...

सिंगापुर में हुए इस इवेंट के लिए लोगों को कई महीनों से जानकारी दी जा रही थी। उन्हें बताया गया था कि ये मच्छर काटने और बीमारी फैलाने वाले नहीं हैं। उनको बताया गया था कि ये एक बड़ा साइंस प्रोजेक्ट है। असल में हवा में छोड़े गए ये मच्छर वोल्बाशिया नाम के बैक्टीरिया के शिकार थे। ये बैक्टीरिया मच्छरों की प्रजनन की क्षमता पर असर डालता है। साथ ही ये ज़ीका वायरस को भी रोकता है।

सिंगापुर ऐसा करने वाला इकलौता देश नहीं है। इसके अलावा एशिया और लैटिन अमरीका के कई देशों में भी ये प्रयोग किया जा चुका है। बहुत से देशों में मच्छरों की बच्चे पैदा करने की क्षमता ख़त्म कर दी जाती है। फिर उन्हें हवा में छोड़ दिया जाता है।