Love life / पटरी पर दौड़ेगी प्यार की गाड़ी, शादी के पहले और शादी के बाद भी

NavBharat Times : Mar 19, 2020, 12:59 PM

Love Life: लव-लाइफ जब शुरू होती है तो सब कुछ बड़ा कोज़ी-कोज़ी सा लगता है लेकिन ज्यादातर लोगों की लाइफ में ये कोज़ीनेस लंबे समय तक नहीं बनी रहती। जबकि यह बनी रह सकती है। हम लव गुरु नहीं है कि आपको प्यार की कड़ाही में तड़का लगाने की सलाह देंगे... हम आपको उन सिचुएशंस के बारे में बताएंगे, जो दूरियों वजह बन जाती हैं।

इन वजहों से बढ़ती है दिक्कत

प्यार के रिश्ते में दिक्कतों की अनेक वजह हो सकती हैं... लेकिन रिश्ते को बनाए रखने की सिर्फ एक वजह होती है और वह है आपका एक-दूसरे के लिए प्यार...। तो जीवन की समस्याएं, पर्सनैलिटी की कमी या अलग-अलग पसंद जैसी चीजें आपके प्यार का रंग फीका ना कर पाएं, इसके लिए शादी के पहले हो या शादी के बाद आपको मैरिज काउंसलर की मदद लेने में झिझकना नहीं चाहिए।

लव हो या अरेंज मैनेज तो करना है

लव मैरिज रही हो या अरेंज...हमारा दिल आज भी सात जन्मों में बंधन में यकीन करता है। बशर्ते किसी एक की लाइफ में भी तकलीफें ना हों। अगर आपको लग रहा है कि आप अपने रिश्ते को संभाल नहीं पा रहे हैं तो आपको मैरिज काउंसलर के पास जाना चाहिए। क्योंकि रिश्ते हमेशा इसलिए खराब नहीं होते कि इंसान गलत है। ज्यादातर टाइम रिश्ते इसलिए खराब होते है क्योंकि हम एक-दूसरे को समझ नहीं पाते।

विश्वास की बात

'आई ट्रस्ट यू' और 'आई लव यू' कहना तो ठीक है लेकिन रिश्तों की गहराई की बात समझते हुए हमें यह जानना होगा कि बिना विश्वास के प्यार नहीं हो सकता और जब तक प्यार ना हो, हम किसी पर विश्वास नहीं कर सकते। इसलिए जरूरी है कि आप रिश्ते की सिर्फ खामियों पर नजर ना डालें...उन पलों को भी याद करें जब आपने रिश्ता शुरू किया था।

शादी के बाद की सहजता

आज भी ज्यादातर कपल बच्चे की प्लानिंग, फिनैंशल इश्यूज के बारे में खुलकर बात नहीं करते। बस गाड़ी किसी तरह चलती रहती है। दोनों को लगता है कि उनका साथी वो सब भी समझ रहा है, जो उनके मन में चल रहा होता है। और ऐसा ना होने पर झगड़ा होता है। दरअसल यह सब हमारी अपेक्षाओं का खेल है।

वो भगवान नहीं है पार्टनर है

अपने पार्टनर से बात करते समय हमें अपनी प्लानिंग या सोच खुलकर उसके साथ साझा करनी चाहिए। हमें यह बात स्वीकारनी चाहिए कि हमारा पार्टनर भगवान नहीं है, जो हमारे मन की बात भी बिना बताए समझ जाए... यह सब एक अर्से के बाद ही संभव हो पाता है। जब आप साथ में करीब एक दशक बिता चुके हों।

कुछ भी असंभव नहीं

अगर दोनों पार्टनर अपने रिश्ते को लेकर सीरियस हैं और उसे आगे बढ़ाना चाहते हैं तो आपकी हर समस्या का समाधान संभव है। क्योंकि कंपैटिब्लिटी, अंडरस्टैंडिंग और अपनी अपेक्षाओं को सीमित रखना सब कुछ संभव है। इस कोशिश में काउंसलर आपकी बहुत मदद कर सकता है। इसलिए शर्म और झिझक छोड़कर काउंसलर की मदद लें।

SUBSCRIBE TO OUR NEWSLETTER