एजुकेशन / राजस्थान के कोचिंग विद्यार्थियों में तनाव कम करने के लिए राज्य स्तरीय समिति बनाई

Zoom News : Sep 04, 2019, 06:15 PM
जयपुर। राज्य सरकार ने एक आदेश जारी कर कोचिंग संस्थानों में अध्ययनरत छात्रों के तनाव को कम करने के लिए कोचिंग संस्थानों के नियन्त्रण एवं विनियमन के लिए विधायी प्रारूप बनाने के लिए प्रमुख शासन सचिव, स्कूल शिक्षा की अध्यक्षता में राज्य स्तरीय बहुसदस्यीय समिति का गठन किया है। समिति में कोटा एवं सीकर के जिला कलेक्टर तथा पुलिस अधीक्षक, मनोचिकित्सा केन्द्र, जयपुर के अधीक्षक, बीकानेर के शिक्षाविद् अमीचंद सदस्य होंगे।
इसके अतिरिक्त लेडी हार्डिंग मेडिकल कॉलेज, नई दिल्ली, के एसो. प्रोफेसर,डॉ. शिवप्रसाद, यज्ञदत्त हाड़ा, चाइल्ड राइट एक्टिविस्ट, नोेडल डायरेक्टर कोटा एवं डॉ. मधुलिका शर्मा, शिक्षा सलाहकार, राष्ट्रीय बाल अधिकार संरक्षण आयोग, नई दिल्ली भी समिति में सदस्य होंगे। समिति में सीकर के ईम्पलस कोचिंग संस्थान से महावीर हुडडा तथा रिजोनेन्स कोटा के प्रतिनिधि, बाल मनोविज्ञान के क्षेत्र में कार्य कर रही स्वयंसेवी संस्था उद्यान केयर, जयपुर, टाटा इंस्टीट्यूट ऑफ सोशल साइन्स, मुम्बई के प्रतिनिधि तथा स्कूल शिक्षा विभाग के वरिष्ठ संयुक्त विधि परामर्शी भी सदस्य होंगे।
समिति में महाधिवक्ता अथवा प्रतिनिधि एम.एस. सिंघवी तथा वरिष्ठ अधिवक्ता सुधीर गुप्ता विशेष आमंत्रित होंगे। समिति में स्कूल शिक्षा विभाग (ग्रुुप- 5) के शासन उप सचिव सदस्य सचिव होंगे। 
समिति द्वारा नामित किये गये सदस्य अन्य राज्यों का दौरा करेंगे तथा वहां पर कोचिंग संस्थानों में अध्ययनरत बच्चों के स्टे्रस को कम करने के लिए राज्य में चल रहे कानून व अन्य बिन्दुओं पर विचार विमर्श कर रिपोर्ट एवं सुझाव समिति के समक्ष रखेंगे। जिस पर समिति में गहनता से विचार विमर्श कर व्यापक विधायी प्रारूप तैयार होगा। साथ ही समिति विधायी ड्राफ्ट अथवा प्रारूप तैयार करने में विभिन्न राजकीय प्रतिनिधि के आवश्यकता पड़ने पर विशेष आमंत्रित कर सकेगी।