राज्य / पहले पढ़ाई करो, प्रेमी 21 साल का हो जाए तो शादी पर फैसला लेना: लड़की से हाईकोर्ट

Jansatta : Sep 06, 2019, 03:47 PM

मद्रास उच्च न्यायालय ने एक 18-वर्षीय लड़की को पहले पढ़ाई पूरी करने और उसके बाद शादी करने का निर्देश दिया है। दरअसल लड़की एक ऐसे लड़के से प्यार करती है ज्सिकी उम्र 21 साल से कम है। ऐसे मे कोर्ट ने लड़की को अपनी स्नातक की पढ़ाई पूरी करने का निर्देश दिया है और उसके बाद शादी के बारे में सोचने को कहा है। लड़की जबतक स्नातक की पढ़ाई पूरी करेगी तब तक लड़के की उम्र 21 साल हो जाएगी जो कि भारत में किसी भी लड़के की शादी करने की वैध उम्र है।

तिरुनेलवेली के रहने वाले एक शख्स ने मद्रास हाई कोर्ट की मदुरै बेंच में ‘बंदी प्रत्यक्षीकरण’ याचिका दाखिल की थी। जहां उन्होंने दो लोगों के खिलाफ उसकी बेटी को नज़रबंद करने का आरोप लगया था। लड़की के पिता ने कोर्ट से कहा कि उनकी बेटी ने अभी-अभी कॉलेज जाना शुरू किया है इसलिए शादी का फैसला लेने से पहले उसे अपनी स्नातक की पढ़ाई पूरी करनी चाहिए। हालांकि, लड़की ने कहा कि वह एक लड़के से प्यार करती है और उससे शादी करना चाहती है। लड़की ने ये भी कहा कि उसने अभी-अभी कॉलेज जॉइन किया है और अपनी पढ़ाई जारी रखेगी लेकिन वह अपने पिता के साथ नहीं जाएगी।

जस्टिस एस वैद्यनाथन और एन आनंद वेंकटेश की पीठ ने पाया कि याचिकाकर्ता द्वारा मांगी गई राहत नहीं दी जा सकती क्योंकि लड़की नाबालिग नहीं है। अदालत ने कहा, “हम उसकी इच्छाओं के खिलाफ नहीं जा सकते और उसे याचिकाकर्ता के साथ रहने के लिए नहीं मजबूर कर सकते हैं।” लड़के ने कोर्ट से कहा कि उसके माता-पिता शादी को तैयार हैं और उसकी पढ़ाई भी जारी रखना चाहते हैं। हालांकि, लड़के के 21 साल से कम उम्र का होने की वजह से कोर्ट ने दोनों की शादी पर भी सहमति नहीं जताई है और लड़की को निर्देश दिया है कि वह कॉलेज हॉस्टल में रहते हुए अपनी पढ़ाई पूरी कर ले और जब ग्रैजुएशन पूरा हो जाए तब शादी के बारे में कोई फैसला ले।