मध्यप्रदेश / शादी में घोड़ी नहीं चढ़ पाया था, पत्नी से समझौता करने पति अदालत में बारात लेकर पहुंचा

Dainik Bhaskar : Dec 15, 2019, 04:04 PM

देवास | जिला न्यायालय में शनिवार को लोक अदालत में दो साल से अलग रह रहे पति-पत्नी के विवाद का समझौता हो गया। पति दूल्हा बन घोड़ी पर सवार होकर अदालत पहुंचा, पत्नी को वरमाला पहनाई और मांग में सिंदूर भरा। 2008 में हुई शादी में पत्नी के भाई से विवाद के कारण पति घोड़ी पर नहीं चढ़ पाया था, इससे वह नाराज था। अपर सत्र न्यायाधीश गंगाचरण दुबे ने पति की शिकायत सुनने के बाद उसे लोक अदालत तक बारात लेकर आने की अनुमति दे दी, जिससे मामला सुलझ गया। 

दरअसल, बिंजाना निवासी सिक्योरिटी गार्ड पवन कुमावत की शादी 26 अप्रैल 2008 को ग्राम छोटा मालसापुरा की करुणा के साथ हुई थी। कुछ दिन बाद सास-बहू के बीच विवाद शुरू हो गए। झगड़ा इतना बढ़ा कि पति-पत्नी अलग-अलग रहने लगे। तब पति ने पत्नी के खिलाफ प्रताड़ित करने का केस दर्ज करा दिया।

दोनों पक्षों से बातकर समझौता कराया

दो साल विभिन्न न्यायालयों में मामला चला। इसी बीच पवन ने कुटुम्ब न्यायालय में तलाक का प्रकरण लगा दिया। अपर सत्र न्यायाधीश गंगाचरण दुबे ने दोनों से अलग- अलग बात कर समझाया तो दोनों लोक अदालत में समझौते के लिए राजी हो गए।