Gadget / 48 घंटे में 138 बार रुकीं दिल की धड़कनें, ऐपल वॉच ने बचा ली युवक की जान

Zoom News : Sep 04, 2022, 04:43 PM
Gadget | फिटनेस और फैशन से जुड़े ट्रेंड के चलते स्मार्टवॉच और वियरेबल्स इस्तेमाल करने वालों की संख्या तेजी से बढ़ी है। हालांकि, समय देखने और फिटनेस से जुड़ा डाटा दिखाने के अलावा ये स्मार्ट वियरेबल्स जान भी बचा सकते हैं। नया मामला Apple Watch से जुड़ा है, जिसकी वजह से लंदन में रहने वाले एक युवक को दिल की बीमारी का पता चला और उसकी जान बचाई जा सकी। ऐसा ऐपल वॉच में मिलने वाले ECG सेंसर की मदद से संभव हुआ।

ऐपल वॉच ने UK में रहने वाले 54 साल के डेविड लास्ट को अलर्ट्स भेजकर बताया कि उनका हार्ट रेट करीब 3,000 बार बेहद कम हुआ। द इंडिपेंडेंट की रिपोर्ट के मुताबिक, डेविड के दिल की धड़कनें अस्पताल में 48 घंटे के टेस्टिंग पीरियड में करीब 138 बार रुकीं। बाद में पता चला कि उनके दिल में एक बड़ा ब्लॉकेज है, जिसके चलते उनकी जान जा सकती थी। बता दें, डेविड का हार्ट रेट 30bpm (बीट्स प्रति मिनट) तक कम हो रहा था, जबकि इसकी सामान्य रेंज 60 से 100bpm के बीच होती है।

करीब 48 घंटे तक ECG और फिर MRI जैसे टेस्ट्स के बाद डेविड की धड़कनें रुकने और इनके धीमा होने की वजह सामने आई। डॉक्टरों ने उन्हें बताया कि उनके हार्ट में एक बड़ा ब्लॉकेज है। पिछले महीने डेविड का ऑपरेशन कर उनके शरीर में पेसमेकर लगाया गया, जिससे उनके दिल की धड़कनें सामान्य रखी जा सकें और मौजूदा खतरे से छुटकारा मिले। हालांकि, इसका पता सबसे पहले ऐपल वॉच की वजह से लगा था।

पत्नी ने जन्मदिन पर गिफ्ट की थी ऐपल वॉच

डेविड को उनके जन्मदिन पर पत्नी की ओर से अप्रैल में ऐपल वॉच गिफ्ट के तौर पर मिली थी, जिसके बाद उन्हें हार्ट रेट असामान्य होने से जुड़े अलर्ट्स मिलना शुरू हुए। उन्होंने पब्लिकेशन से बताया, “अगर वह मुझे जन्मदिन पर ऐपल वॉच गिफ्ट नहीं करती तो आज मैं यहां नहीं होता। मैं इसके लिए हमेशा उसका शुक्रगुजार रहूंगा। मैं ऐपल वॉच को केवल चार्जिंग के लिए निकालूंगा और बाकी वक्त इसे पहनकर रखूंगा।”

एडवांस्ड हेल्थ फीचर्स से जुड़ा अपडेट देगी ऐपल

ऐपल वॉच पहले भी कई मामलों में यूजर्स की जान बचा चुकी है। iOS 16 और WatchOS 9 अपडेट के साथ इसमें कई नए फीचर्स शामिल किए जाएंगे। यह वॉच स्वास्थ्य और फिटनेस से जुड़े 17 पैरामीटर्स की निगरानी करेगी। दिल की सेहत, नींद, महिलाओं के स्वास्थ्य और दूसरे फिटनेस आधारित ट्रैकर्स के लिए इसका इस्तेमाल बेहतर ढंग से किया जा सकेगा। बता दें, ऐपल ने हाल ही में स्टैनफोर्ड यूनिवर्सिटी के साथ मिलकर ऐपल हार्ट स्टडी तैयार करने की घोषणा की है।

SUBSCRIBE TO OUR NEWSLETTER