अब वॉटर मैनेजमेंट में अव्वल / इंदौर को मिला राष्ट्रीय जल पुरस्कार, राष्ट्रपति ने सांसद और कलेक्टर को दिया सम्मान

Zoom News : Mar 29, 2022, 03:15 PM
पांच बार देश सबसे स्वच्छ शहर बन चुके इंदौर के खाते में एक और उपलब्धि आई है। तीसरे राष्ट्रीय जल पुरस्कार-2020 में पश्चिम जोन में इंदौर सर्वश्रेष्ठ जिला रहा। राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद ने मंगलवार को दिल्ली के विज्ञान भवन में इंदौर को राष्ट्रीय जल पुरस्कार से सम्मानित किया। सांसद शंकर लालवानी और कलेक्टर मनीष सिंह ने यह पुरस्कार ग्रहण किया। 

कलेक्टर मनीष सिंह ने बताया कि सेंट्रल ग्राउंडवॉटर टीम ने जल संरक्षण के क्षेत्र में किए जा रहे कार्यों के लिए सर्वे किया था। इसमें कई मापदंडों पर इंदौर खरा उतरा। जल संरक्षण, वॉटर रीसाइक्लिंग, सीवरेज सिस्टम मैनेजमेंट आदि घटकों का टीम ने अवलोकन किया। सर्वे में टीम ने इंदौर नगर निगम के सभी सीवरेज प्लांट की टैपिंग, आवासीय और व्यावसायिक प्रतिष्ठानों से निकलने वाले खराब पानी को ट्रीटमेंट के बाद ही पयार्वरण में छोड़े जाने, वेस्ट-वॉटर का फिर से उपयोग आदि गतिविधियों के लिए प्रशंसा की है। सर्वे में पाया गया कि इंदौर में 16 हजार प्राइवेट प्रतिष्ठानों में रूफटॉप वॉटर रिचार्जिंग यूनिट्स लग चुके हैं। 1,500 सरकारी कार्यालयों में भी वॉटर रिचार्जिंग यूनिट्स लगे हैं। टीम ने ग्रामीण क्षेत्रों में भी खेत तालाब, चेक डैम एवं जल संरक्षण उपायों से पानी के स्तर में बदलाव का भी आकलन किया है। 

नवाचार का शहर है इंदौर

मध्य प्रदेश शासन के जल संसाधन मंत्री तुलसीराम सिलावट ने राष्ट्रीय जल पुरस्कार में पश्चिम जोन श्रेणी में प्रथम आने पर इंदौर के जनप्रतिनिधियों, प्रशासन और नागरिकों को बधाई दी। उन्होंने कहा कि नदी नाला टैपिंग, वॉटर रिचार्जिंग यूनिट्स, जल पुनर्भरण व वॉटर प्लस के क्षेत्र में इंदौर ने कई उत्कृष्ट कार्य किए हैं। इंदौर नवाचार का शहर है, यह मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान के सपनों का शहर है। जल संरक्षण के क्षेत्र में कई नवाचारों को इंदौर ने अपनाया है। यहां के जनप्रतिनिधियों, प्रशासन और नागरिकों के दृढ़ इच्छाशक्ति और अनुशासन का ही नतीजा है कि इंदौर को आज राष्ट्रीय जल पुरस्कार से सम्मानित किया गया है। इंदौर आगे भी जल संरक्षण के क्षेत्र में इसी तरह आगे बढ़े इसके लिए और भी अधिक प्रयास किए जाएंगे। 

Booking.com

SUBSCRIBE TO OUR NEWSLETTER