स्पोर्ट्स / World Cup 2019 सेमीफाइनल में धोनी को 7वें नंबर पर भेजने को लेकर कोच रवि शास्त्री ने किया बड़ा खुलासा

India TV : Jul 12, 2019, 01:24 PM
आईसीसी वर्ल्ड कप 2019 में टीम इंडिया का सफर सेमीफाइनल में न्यूजीलैंड के खिलाफ 18 रन की हार के साथ खत्म हो गया। इस हार के बाद जिस खिलाड़ी की सबसे ज्यादा आलोचना हो रही है वो हैं पूर्व कप्तान महेंद्र सिंह धोनी जो टॉप आर्डर असफल होने के बाद नंबर 7 पर बल्लेबाजी करने आए। इस फैसले से भारतीय क्रिकेट फैंस काफी हैरान हुए और सोशल मीडिया पर अपना गुस्सा जाहिर किया। 

वर्ल्ड कप के पहले सेमीफाइनल में न्यूजीलैंड ने पहले बल्लेबाजी करते हुए भारत को 240 रन का लक्ष्य दिया। इसके जवाब में टीम इंडिया के सलामी बल्लेबाज रोहित शर्मा, केएल राहुल और कप्तान विराट कोहली 5 रन के स्कोर पर पवेलियन लौट गए। 10वे ओवर की आखिरी गेंद पर भारत को दिनेश कार्तिक के रूप में चौथा झटका लगा और भारतीय टीम बैकफुट पर आ गई।

इसके बावजूद भारतीय फैंस को भरोसा था कि ऐसी मुश्किल परिस्थिति में पूर्व कप्तान और दुनिया के सर्वश्रेष्ठ फिनिशर धोनी इस घड़ी में टीम को संभाल लेंगे। लेकिन धोनी 5वें नंबर पर बल्लेबाजी करने नहीं आए और मैनेजमेंट ने उनसे पहले दिनेश कार्तिक और हार्दिक पांड्या को मैदान में उतारने का फैसला किया।

इस मुश्किल घड़ी में धोनी से पहले कार्तिक और पांड्या को मैदान पर भेजने के फैसले से फैंस समेत कई पूर्व क्रिकेटर काफी नाराज हुए। इस फैसले से सौरव गांगुली भी काफी हैरान नजर आए। गांगुली ने कमेंट्री के दौरान कहा, "एमएस धोनी क्यों नहीं। जब भारत दवाब में है तो उन्हें क्यों नहीं उतारा गया। ये फैसला सही नहीं है।"

अब जब टीम इंडिया का वर्ल्ड चैंपियन बनने का सपना चकनाचूर हो गया तो महेंद्र सिंह धोनी को 5वें नंबर की जगह 7वें नंबर पर भेजने की वजह का खुलासा हुआ है। भारतीय टीम के कोच रवि शास्त्री ने इंडियन एक्सप्रेस से बातचीत में इसको लेकर खुलासा किया है। शास्त्री ने इंडियन एक्सप्रेस से कहा, "ये टीम का फैसला था।"

शास्त्री ने बताया ,''ये फैसला पूरी टीम का था और एक आसान फैसला था। अगर धोनी पहले बैटिंग के लिए आते और वो जल्दी आउट हो जाते तो फिर लक्ष्य का पीछा करने का सारा खेल ही बिगड़ जाता। हमें उनके अनुभव की बाद में जरूरत थी। वो दुनिया के सबसे बड़े फिनिशनर है और अगर हम उनका इस्तेमाल सही समय पर नहीं करते तो फिर उनके साथ और टीम के साथ न्याय नहीं होता।"

उन्होंने आगे कहा, "धोनी शानदार खिलाड़ी है और वे सही तरीके से लक्ष्य की तरफ बढ़ रहे थे। उन्हें पता था कि अंतिम ओवर जिमी नीशम डालेंगे और वे उसी हिसाब से मैच में बल्लेबाजी कर रहे थे। वे दुर्भाग्य से गुप्टिल की डायरेक्ट थ्रो पर रन आउट हो गए और जब वह पवेलियन की और लौट रहे थो तो इसकी निराशा उनके चेहरे पर साफ देखी जा सकती थी।

SUBSCRIBE TO OUR NEWSLETTER