कारोबार / कच्चे तेल ने बिगाड़ा बाजार का मूड, सेंसेक्स 1200 अंक टूटा, निवेशकों के डूबे ₹4 लाख करोड़

News18 : Apr 21, 2020, 03:03 PM
नई दिल्ली। ग्लोबल मार्केट में अस्थिरता और कच्चे तेल की कीमतों (Crude Oil Prices) में भारी गिरावट ने घरेलू बाजार का मूड बिगाड़ दिया है। जिसके चलते मंगलवार के कारोबार में सेंसेक्स 1237 अंक टूटकर 30,410 के स्तर पर आ गया। वहीं निफ्टी 350।75 प्वाइंट्स फिसलकर 8911 के स्तर पर आ गया। बाजार में गिरावट से निवेशकों को 4 लाख करोड़ रुपये का नुकसान हुआ है। बता दें कि सोमवार को अमेरिकी वायदा बाजार में कच्चे तेल का भाव जीरो डॉलर प्रति बैरल से नीचे चल गया। इतिहास में ऐसा पहली बार हुआ है जब कच्चे तेल का भाव नेगेटिव में चला गया।

निवेशकों के डूबे 4 लाख करोड़ रुपये

बाजार में गिरावट से निवेशकों को 4 लाख करोड़ रुपये का नुकसान हुआ है। सोमवार को बीएसई पर लिस्टेड कुल कंपनियों का मार्केट कैप 1,23,72,581।25 करोड़ रुपये था, जो आज 3,97,028 करोड़ रुपये घटकर 1,19,75,553।68 करोड़ रुपये हो गया।

बाजार की इस गिरावट में मिड और स्मॉल कैप शेयरों में भी जमकर बिकवाली देखने को मिल रही है। बीएसई का मिडकैप इंडेक्स करीब 3 फीसदी और स्मॉल कैप इंडेक्स 3.11 फीसदी टूटकर कारोबार कर रहे है।

जीरो डॉलर के नीचे आया कच्चे तेल का दाम

मई डिलीवरी के लिए यूएस बेंचमार्क वेस्ट टेक्सास इंटरमिडिएट की कीमत सोमवार को पहली बार शून्य से नीचे गिरी। मंगलवार को मई की डिलीवरी के लिए कारोबार का आखिरी दिन है। ऐसे में सोमवार को बाजार में कच्चा तेल की कीमत जीरो से नीचे यानी -37।63 डॉलर/बैरल पहुंच गयी।

भारत सस्ते क्रूड का फायदा उठाएगा। सरकार की ऑयल रिजर्व मजबूत करने की योजना है। भारत सरकार अपना स्ट्रैटेजिक ऑयल रिजर्व मजबूत करने जा रही है। स्ट्रैटेजिक ऑयल रिजर्व भंडार की क्षमता भी बढ़ेगी। कोरोना संकट के बीच  ट्रंप सरकार का बड़ा फैसला आया है। बाहरी लोगों के अमेरिका में बसने पर अस्थायी रोक लगाई गई है। इधर  Hong Kong में लॉकडाउन 14 दिन बढ़ाया गया है।


SUBSCRIBE TO OUR NEWSLETTER