दिल्ली तिहाड़ जेल / निर्भया के दोषी जल्द फांसी के डर से हुए अवसाद, खाना-पीना किया कम

ABP News : Dec 14, 2019, 11:34 AM

नई दिल्ली | तिहाड़ जेल में बंद निर्भया बलात्कार-हत्याकांड के चारों दोषी अवसाद में हैं और उन्होंने खाना-पीना भी कम कर दिया है। जेल के सूत्रों ने शुक्रवार को यह जानकारी दी। सूत्रों ने बताया कि चारों दोषियों- अक्षय, मुकेश, पवन गुप्ता और विनय शर्मा के साथ चार-पांच सुरक्षाकर्मियों को तैनात किया गया है, ताकि वे खुद को कोई नुकसान न पहुंचा सकें।

तिहाड़ जेल के महानिदेशक संदीप गोयल समेत वरिष्ठ अधिकारियों ने शुक्रवार को जेल का दौरा कर दोषियों को फांसी पर लटकाने की तैयारियों का जायजा लिया और संतुष्टि जाहिर की। इस चर्चित मामले की कोई जानकारी लीक न हो, इसके लिये तिहाड़ जेल के अधिकारियों के फोन निगरानी पर लगा दिये गए हैं। इससे पहले चारो दोषियों को शुक्रवार को वीडियो लिंक के जरिये अदालत जज के सामने पेश किया गया, जिन्होंने उनकी पहचान सत्यापित की। दोषियों की सुरक्षा में तमिलनाडु स्पेशल पुलिस के जवान और हर आरोपी के लिए एक अलग से जेलकर्मी भी तैनात किया गया है।

इस बीच निर्भया की मां ने शुक्रवार को कहा कि वह चाहती हैं कि 16 दिसंबर से पहले दोषियों को फांसी दी जाए। उन्होंने कहा, "मैं अपनी बेटी को न्याय दिलाने और उसे मुझसे छीनने वालों को मौत की सजा दिलाने के लिये लड़ाई जारी रखूंगी। मैं चाहती हूं कि उन्हें 16 दिसंबर से पहले फांसी दी जाए।"

अरविंद केजरीवाल ने कहा- दोषियों को जल्द से जल्द फांसी दी जानी चाहिए

दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल ने शुक्रवार को मांग की कि 2012 में निर्भया के साथ सामूहिक दुष्कर्म और हत्या करने वाले दोषियों को जल्द से जल्द फांसी दी जानी चाहिए। उन्होंने कहा, "देश की तरह हम भी चाहते हैं कि दोषियों को जल्द से जल्द फांसी दी जाए। सभी लंबित औपचारिकताओं को तेजी से पूरा किया जाना चाहिए।"

दिल्ली सरकार ने इस महीने की शुरुआत में मामले में एक दोषी की ओर से दायर की गई दया याचिका को खारिज करने की पुरजोर सिफारिश की थी।

18 दिसंबर दोपहर 2 बजे सुनवाई करेगी कोर्ट

दिल्ली की पटियाला हाउस कोर्ट में 13 दिसंबर को निर्भया मामले की सुनवाई टल गई। दोषियों की जल्द फांसी के लिए अभी और इंतजार करना होगा। कोर्ट अब इस मामले पर 18 दिसंबर दोपहर 2 बजे सुनवाई करेगा। दिल्ली की तिहाड़ जेल में चारों दोषी बंद हैं। निर्भया की मां ने चारों दोषियों के लिए जल्द से जल्द फांसी की मांग की है। निर्भया की मां का कहना है कि यह दोषी सुप्रीम कोर्ट से तक फांसी की सजा सुनाए जाने के बावजूद अभी भी जेल में ही बंद है।

चारों दोषियों का हुआ मेडिकल चेकअप

बताया जा रहा है कि जेल प्रशासन ने चारों दोषियों का मेडिकल चेकअप कराया है। चारों दोषियों में से तीन दोषी जेल नंबर दो में बंद हैं, जबकि एक दोषी जेल नंबर चार में है। इनमें से किसी को भी अभी तक फांसी घर के पास बनी कालकोठरी में नहीं भेजा गया है। बड़ी बात यह है कि दोषियों पर सीसीटीवी कैमरों के जरिए भी निगाह रखी जा रही है। सूत्रों के मुताबिक, एक दोषी ने रात को नींद ना आने की शिकायत की थी।

दोषियों के लिए तैयार है तिहाड़ का फांसीघर

तमाम कानूनी अड़चनों के बावजूद तिहाड़ जेल का प्रशासन दोषियों को फांसी देने की तैयारियों में जुटा हुआ है। बताया जा रहा है कि जेल प्रशासन ने जेल नंबर तीन में स्थित फांसीघर की मरम्मत का काम शुरू कर दिया है। दिलचस्प बात यह है कि एक अंधविश्वास के कारण जेल कर्मी फांसी के तख्ते से कई बार लकड़ी का छोटा टुकड़ा तोड़कर ले जाते हैं। इसलिए सूत्र बता रहे हैं कि अब फांसीघर में नए तख्ते लगेंगे।