देश / मोदी सरकार की कोशिशों के बावजूद कई राज्यों में पेट्रोल-डीजल की किल्लत

Vikrant Shekhawat : Jun 23, 2022, 08:07 AM
Delhi: पूरे एक माह से पेट्रोल और डीजल के दाम स्थिर हैं। केंद्र सरकार के 21 मई को पेट्रोल और डीजल पर उत्पाद शुल्क में कटौती के बाद कीमतों में कोई बदलाव नहीं हुआ है। इसके बावजूद देश के कई राज्यों में पेट्रोल-डीजल की उपलब्धता को लेकर आशंकाएं बरकरार है। हालात पर काबू पाने के लिए सरकार के यूनिवर्सल सर्विस आब्लिगेशन (यूएसओ) का दायरा बढ़ाया है, पर वह भी कारगर नहीं हो रहा है।

देश के कई राज्यों में पेट्रोल और डीजल की किल्लत बढ़ती जा रही है। पेट्रोलियम क्षेत्र के जानकारों का मानना है कि निजी क्षेत्र की कंपनियां जानबूझकर बिक्री नहीं कर रही है क्योंकि, उत्पाद शुल्क में कटौती की वजह से उन्हें पेट्रोल पर लगभग दस रुपए और डीजल पर बीस रुपए से भी ज्यादा प्रति लीटर का घाटा उठाना पड़ रहा है। निजी क्षेत्र की कंपनियां अपना नुकसान कम करने के लिए कम तेल बेच रही हैं।

निजी कंपनियों के आउटलेट बंद होने से सार्वजनिक क्षेत्र की तेल कंपनियों पर दबाव बढ़ गया है। तेल कंपनियों के पेट्रोल पंप मालिकों को तेल देने की नीति में बदलाव से भी असर पड़ा है। बीपीसीएल ने डीलरों को उधार देना बंद कर दिया है। एंपावरिंग पेट्रोलियम डीलर्स एसोसिएशन के सदस्य हेमंत सिरोही कहते हैं कि कंपनियों ने तेल की आपूर्ति कम कर दी है।

वहीं, उधार के बजाए अब तेल कंपनियां नया स्टॉक लेने के लिए एडवांस मांग रही है। सिरोही बीपीसीएल के पेट्रोल पंप डीलर है। हिन्दुस्तान पेट्रोलियम कॉरपोरेशन लिमिटेड (एचपीसीएल) के आंकड़ो के मुताबिक अप्रैल-मई 2021 के मुकाबले इन दो माह में इस साल एचपीसीएल की पेट्रोल की बिक्री में 36.3 फीसदी की वृद्धि हुई है।

वहीं, इस अवधि में निजी कंपनियों की पेट्रोल की बिक्री 1.6 प्रतिशत कम हुई है। वहीं, डीजल की बिक्री 26.9 फीसदी बढ़ी है जबकि निजी कंपनियों की डीजल की बिक्री 28.9 प्रतिशत घटी है।

पेट्रोलियम मंत्रालय के मुताबिक जून 2022 के पहले पखवाड़े में पिछले वर्ष की इस अवधि की तुलना में मांग 50 फीसदी बढ़ी है।

- पेट्रोलियम योजना एवं विश्लेषण प्रकोष्ठ (पीपीएसी) की रिपोर्ट के मुताबिक देश में दिसंबर 2021 तक कुल 79417 रिटेल आउटलेट हैं।

- पीपीएसी के आंकड़ो के मुताबिक अप्रैल 2022 में कच्चे तेल के आयात में 14.3 फीसदी वृद्धि हुई है। अप्रैल में 20873 मिट्रिक टन कच्चा तेल आयात किया गया है।

- पीपीएसी के मुताबिक, अप्रैल में पेट्रोल की खपत 2797 और मई में 3017 हजार मेट्रिक टन की खपत हुई। वहीं, अप्रैल में डीजल 7203 और मई में 7285 हजार मेट्रिक टन की खपत हुई थी।

- पीपीएसी के आंकड़ो के मुताबिक अप्रैल में कच्चे तेल की औसत कीमत 102.97, मई में 109.51 और जून में अब तक का औसत 117.87 डॉलर प्रति बैरल है।

नायरा एनर्जी की सफाई

नायरा एनर्जी ने हिन्दुस्तान के सवालों के जवाब में बताया है कि नायरा के पास पर्याप्त ईंधन आपूर्ति है और वह ग्राहकों की मांग को पूरा करना जारी रखेगी। इसके साथ कंपनी ने कहा कि कच्चे तेल की बढ़ती कीमतों और खुदरा बिक्री की कीमतों में अंतर से होने वाली अंडर रिकवरी को कंपनी सहन कर रही है। कंपनी ने उम्मीद जताई है कि सरकार हस्तक्षेप कर उद्योग के बढते नुकसान को कम करने में मदद करेगी। नायरा एनर्जी के देश भर में 6500 रिटेल आउटलेट हैं।


SUBSCRIBE TO OUR NEWSLETTER