IND vs ENG / टीम इंडिया वर्ल्ड चैंपियन बनने की तैयारी करेगी, इंग्लैंड के साथ आज वॉर्म-अप मैच

Zoom News : Sep 30, 2023, 11:00 AM
IND vs ENG: चार साल के इंतजार के बाद एक बार फिर क्रिकेट की दुनिया का चैंपियन बनने की जद्दोजहद शुरू हो चुकी है. भारत में शुरू हो रहे वनडे वर्ल्ड कप की तैयारियां तो कई दिनों और महीनों से चल रही है लेकिन जो 15 खिलाड़ी टूर्नामेंट में अपनी-अपनी टीमों की दावेदारी पेश करेंगे, उनका आखिरी अभ्यास शुरू हो चुका है. शुक्रवार 29 सितंबर से वर्ल्ड कप के वॉर्म-अप मैच शुरू हो चुके हैं और शनिवार 30 सितंबर यानी आज भारतीय टीम ऐसे ही एक मुकाबले के लिए मैदान में उतरेगी. टीम इंडिया के सामने पहली चुनौती है- मौजूदा वर्ल्ड चैंपियन इंग्लैंड. ये मैच टीम इंडिया को पूरे वर्ल्ड कप के दौरान सबसे अहम समस्या से निपटने के लिए तैयार करवाएगा.

वर्ल्ड कप के तीन वॉर्म-अप वेन्यू में से एक गुवाहाटी में भारतीय टीम अपना पहला अभ्यास मैच खेलेगी. अगले अभ्यास मैच में भारत को नेदरलैंड्स से भिड़ना है. ऐसे में इंग्लैंड के खिलाफ इस अभ्यास मैच की अहमियत बढ़ जाती है क्योंकि इंग्लिश टीम में कुछ ऐसी खूबियां हैं, जो भारत को बाकी टीमों के खिलाफ तैयार करने में भी मदद करेंगे. जाहिर तौर पर इंग्लैंड इस मुकाबले में अपनी पूरी ताकत तो नहीं झोंकेगा, न ही टीम इंडिया ऐसा करेगी. फिर भी भारत के लिए एक खास वजह से ये मुकाबला अहम है.

भारत की वही पुरानी परेशानी

रोहित शर्मा की कप्तानी वाली टीम इंडिया को पिछले कुछ सालों में एक खास परेशानी से जूझना पड़ा है, जिसमें खुद कप्तान रोहित और विराट कोहली जैसे दो दिग्गज बल्लेबाज शामिल हैं. ये है बाएं हाथ के तेज गेंदबाजों के खिलाफ संघर्ष. ट्रेंट बोल्ट हों या शाहीन शाह अफरीदी या मिचेल स्टार्क, इन दिग्गज लेफ्ट आर्म पेसर्स ने भारतीय बल्लेबाजों को परेशान किया है. सिर्फ ये ही नहीं, बल्कि ऐसे ही कई अन्य पेसर्स रहे हैं, जिन्होंने टीम इंडिया के टॉप ऑर्डर को खास तौर पर फंसाया है क्योंकि भारत के पास शीर्ष में दाएं हाथ के बल्लेबाज ही हैं और ऐसे में लेफ्ट आर्म पेसर्स की स्विंग और एंगल उन्हें परेशान करते रहे हैं.

इंग्लैंड देगा तैयारी का मौका

इंग्लैंड की टीम में बाएं हाथ के तीन मीडियम पेसर हैं, जिनके पास रफ्तार ज्यादा नहीं है लेकिन ये तीनों ही मुश्किल एंगल बनाते हैं. खास तौर पर डेविड विली और रीस टॉपली को लंबे कद के कारण उछाल भी अच्छा मिलता है. पिछले साल इंग्लैंड में हुई सीरीज में दोनों ने परेशान किया भी था. वहीं सैम करन ज्यादा अच्छी फॉर्म में नहीं हैं लेकिन वो भी कटर्स और स्विंग का इस्तेमाल करते हैं. अब भारत को छोड़कर वर्ल्ड कप में हिस्सा ले रही लगभग सभी टीमों के पास बाएं हाथ के पेसर हैं और ऐसे में उनसे निपटने के लिए अभ्यास का इससे अच्छा मौका शायद ही हो.

इसके अलावा आदिल रशीद के रूप में एक कमाल का लेग स्पिनर भी है और यहां भी भारतीय टीम के ज्यादातर बल्लेबाज फंसते रहे हैं. साथ में मोईन अली की ऑफ ब्रेक भी है, जो ग्लेन मैक्सवेल से ज्यादा घातक साबित हो सकती है. इस लिहाज से भी ये वॉर्म-अप मैच अहम साबित होगा.

गेंदबाजों के लिए भी अच्छा इम्तेहान

सिर्फ बल्लेबाज ही नहीं, बल्कि गेंदबाजों के लिए भी ये अहम है. हालांकि, इसमें ये देखने लायक होगा कि क्या टीम इंडिया जसप्रीत बुमराह और कुलदीप यादव जैसे अपने एक्स-फैक्टर गेंदबाजों को इस मैच में उतारती है या नहीं. दोनों ही सितारों ने हाल के वक्त में शानदार वापसी की है. ऐसे में उन्हें न सिर्फ फ्रेश रखने बल्कि कम से कम एक्सपोज करने की सोच भी हो सकती है.

इस लिहाज से इंग्लैंड के विस्फोटक बल्लेबाजों के सामने शार्दुल ठाकुर, रविचंद्रन अश्विन, रवींद्र जडेजा और हार्दिक पंड्या जैसे गेंदबाजों की सबसे ज्यादा परीक्षा होगी क्योंकि बीच के ओवरों को यही गेंदबाज संभालेंगे और इंग्लैंड की खासियत है कि उसके बल्लेबाज भी इस फेज में भी तेजी से रन बनाने की कोशिश करते हैं. साथ ही इंग्लैंड की बैटिंग डेप्थ से कैसे भारतीय गेंदबाज निपटेंगे, ये भी देखने लायक होगा.

भारत और इंग्लैंड के स्क्वाड

भारत: रोहित शर्मा (कप्तान), शुभमन गिल, विराट कोहली, श्रेयस अय्यर, केएल राहुल (विकेटकीपर), इशान किशन (विकेटकीपर), सूर्यकुमार यादव, हार्दिक पंड्या, रवींद्र जडेजा, रविचंद्रन अश्विन, शार्दुल ठाकुर, जसप्रीत बुमराह, कुलदीप यादव, मोहम्मद शमी और मोहम्मद सिराज.

इंग्लैंड: जॉस बटलर (कप्तान-विकेटकीपर), जॉनी बेयरस्टो (विकेटकीपर), डेविड मलान, जो रूट, बेन स्टोक्स, हैरी ब्रूक, लियम लिविंगस्टन, मोईन अली, सैम करन, क्रिस वोक्स, डेविड विली, गस एटकिंसन, मार्क वुड, आदिल रशीद और रीस टॉपली

SUBSCRIBE TO OUR NEWSLETTER