दुनिया / रूस और मेक्सिको के साथ चीन ने बाइडेन को जीत की बधाई देने से किया इनकार, जानिए वजह

Zoom News : Nov 09, 2020, 08:54 PM
China: चीन ने अमेरिकी राष्ट्रपति चुनाव के विजेता के तौर पर डेमोक्रेटिक पार्टी के जो बाइडेन को बधाई देने से इनकार कर दिया है। चीन ने सोमवार को कहा है कि अमेरिकी चुनाव के नतीजों का निर्धारण होना अभी भी बाकी है।

डोनाल्ड ट्रंप ने अभी तक अपनी हार स्वीकार नहीं की है और उन्होंने चुनाव नतीजों को कोर्ट में चुनौती देने की भी बात कही है। हालांकि, भारत के प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी समेत दुनिया के कई नेता बाइडेन को जीत की बधाई दे चुके हैं।

रूस और मेक्सिको के अलावा, चीन ऐसा बड़ा देश है जिसने बाइडेन को बधाई नहीं दी है। चीन ने सोमवार को कहा कि उन्होंने इस बात का संज्ञान ले लिया है कि बाइडेन को चुनाव का विजेता घोषित कर दिया गया है। ट्रंप के चार साल के कार्यकाल में चीन और अमेरिका के बीच व्यापार को लेकर जंग छिड़ी रही। रही-सही कसर कोरोना वायरस की महामारी आने के बाद पूरी हो गई। अमेरिका में कोरोना वायरस की वजह से भयंकर तबाही हुई और ट्रंप ने वायरस की तबाही के लिए चीन को ही जिम्मेदार ठहराया। अमेरिका और चीन के बीच शिनजियांग और हॉन्ग कॉन्ग में मानवाधिकार उल्लंघन को लेकर भी भिंड़त होती रही।

चीन के विदेश मंत्रालय के प्रवक्ता वांग वेनबिन ने नियमित प्रेस कॉन्फ्रेंस में एक सवाल के जवाब में कहा, हमारी समझ है कि अमेरिका के कानूनों और प्रक्रिया के मुताबिक चुनाव के नतीजे तय किए जाएंगे। संवाददाताओं के बार-बार सवाल पूछने के बावजूद वांग ने बाइडेन की जीत को मानने से इनकार कर दिया। उन्होंने कहा, हमें उम्मीद है कि अमेरिका की नई सरकार चीन को लेकर बीच का कोई रास्ता निकाल लेगी।

ट्रंप ने रविवार को एक ट्वीट में हार स्वीकार करने से इनकार कर दिया था। ट्रंप ने ट्वीट किया था, कब से मीडिया तय करने लगी कि अगला राष्ट्रपति कौन होगा? ट्रंप की तरह मेक्सिको के राष्ट्रपति भी उनकी हार को स्वीकार करने के लिए तैयार नहीं हैं। मेक्सिको के राष्ट्रपति मैनुएल लोपेज ऑब्रेडर ने ट्रंप का साथ देते हुए कहा है कि जब तक कानूनी लड़ाई खत्म नहीं हो जाती है, तब तक वे बाइडेन को जीत की बधाई नहीं देंगे। लोपेज ने ट्रंप की तारीफ करते हुए कहा कि हमारे प्रति उनका रवैया बहुत ही सम्मानजनक रहा है।

रूस के राष्ट्रपति व्लादिमीर पुतिन ने भी बाइडेन को चुनाव में जीत की बधाई नहीं दी है। दिलचस्प ये है कि रूस की विपक्षी पार्टी ने बाइडेन को जीत की बधाई दे दी है। पुतिन पर साल 2016 के अमेरिकी राष्ट्रपति चुनाव में दखल देने और ट्रंप की जीत में मदद करने का आरोप लगा था। जाहिर है कि बाइडेन रूस के खिलाफ ज्यादा आक्रामक और सख्त रवैया अपना सकते हैं। पिछले महीने ही बाइडेन ने रूस को अमेरिका की राष्ट्रीय सुरक्षा के लिए सबसे बड़ा खतरा बताया था। 

Booking.com

SUBSCRIBE TO OUR NEWSLETTER