Delhi / शराब की दुकानों से पसंदीदा ब्रांड नहीं मिलने पर उदास लौटे ग्राहक

Zoom News : Sep 01, 2022, 07:10 PM
दिल्ली में आज से पुरानी आबकारी नीति लागू हो चुकी है। पुरानी नीति के लागू होने के पहले दिन सरकारी शराब की दुकानों में शराब के बहुत कम स्टॉक पाए गए। ज्यादातर सरकारी शराब की दुकानों की अलमारियां खाली नजर आईं।

लौटना पड़ा उदास

शराब के शौकीन लोगों को शराब की दुकानों से उदास लौटना पड़ा। उन्हें अपने पसंद की शराब इन सरकारी शराब की दुकानों पर नहीं मिल पाईं। कई शराब के ग्राहकों ने कहा कि वो उन दिनों को याद कर रहे हैं जब बड़ी-बड़ी शराब की दुकानों पर उन्हें सभी ब्रांड के शराब मिल जाया करते थे। साथ ही उन्हें शराब की दुकानों की ओर से डिस्काउंट भी मिला करते थे।

दिल्ली में पुरानी आबकारी नीति व्यवस्था वापस से लौट आई है। इससे प्राइवेट शराब की दुकानें शराब नहीं बेच सकेंगी। दिल्ली में सरकार द्वारा संचालित शराब की दुकानें ही लोगों को शराब बेच सकेंगी।

जानकारों ने कहा- केवल 240 दुकानें खुलीं

आबकारी विभाग का कहना है कि दिल्ली में कुल 300 सरकारी शराब की दुकानें खुली हैं। लेकिन इस विषय के जानकारों ने बताया कि पुरानी नीति के वापसी के पहले दिन केवल 240 दुकानें ही खुलीं।

जताया उम्मीद

सरकारी शराब की दुकानों में काम करने वाले लोगों ने बताया कि हमने दुकानें समय पर ही खोल दी थीं लेकिन हमें स्टॉक ही नहीं मिला। सिर्फ कुछ ही ब्रांड के शराब मौजूद हैं। दुकान पर काम करने वाले लोगों ने कहा कि उन्हें उम्मीद है कि कुछ दिनों में स्टाक फिर से बढ़ जाएगा।

एक सरकारी शराब की दुकान के इंचार्ज नरेंद्र कुमार ने कहा कि अमूमन शराब की दुकानों पर भीड़ रहता है, लेकिन आज दुकान खाली है। उन्होंने बताया कि भीड़ देख कर ही पता चल जाता है कि सामने शराब की दुकान है लेकिन स्टॉक न होने की वजह से पूरी दुकान खाली है।

समस्या जल्द होगी खत्म

आबकारी अधिकारियों ने कहा कि शुरुआती कुछ दिनों तक परेशानी बनी रहेगी। आने वाले दिनों में शराब की आपूर्ति और ब्रांड की उपलब्धता में सुधार होगा। 40 लाख से अधिक शराब की बोतलों के स्टॉक की व्यवस्था की गई है। उन्होंने कहा कि जल्द ही यह समस्या खत्म हो जाएगी।  

Booking.com

SUBSCRIBE TO OUR NEWSLETTER