OM BIRLA / संसद में राहुल गांधी से हो गई ऐसी गलती, स्पीकर ओम बिरला ने लगाई डांट

Vikrant Shekhawat : Feb 03, 2022, 02:56 PM
लोक सभा में बुधवार को राष्ट्रपति के अभिभाषण पर धन्यवाद प्रस्ताव पर बहस के दौरान कांग्रेस नेता राहुल गांधी (Rahul Gandhi) ने गलती कर दी, जिसके बाद लोक सभा अध्यक्ष ओम बिरला (Lok Sabha Speaker Om Birla) उचित संसदीय प्रक्रिया का पालन नहीं करने के लिए डांट लगाई.

राहुल गांधी ने सांसद को दी थी बोलने की अनुमति

संसद में कांग्रेस के पूर्व अध्यक्ष राहुल गांधी (Rahul Gandhi) ने अपने संबोधन के दौरान कहा था कि मैं सांसद को बोलने की अनुमति देता हूं. इसके बाद स्पीकर ओम बिरला ने उन्हें फटकार लगाई.

अनुमति देने वाले आप कौन: ओम बिरला

राहुल गांधी को फटकार लगाते हुए ओम बिरला (Om Birla) ने कहा, 'यह अनुमति देने वाले आप कौन हैं? आप अनुमति नहीं दे सकते हैं, यह मेरा अधिकार है.'

क्या है पूरा मामला?

संसद में राहुल गांधी (Rahul Gandhi) ने बुधवार को मोदी सरेकार पर निशाना साधा और इस दौरान उन्होंने बीजेपी सांसद कमलेश पासवान का भी नाम लिया. कमलेश पासवान ने इसका विरोध किया और अपनी सीट से बोलने लगे. यह देख राहुल गांधी ने कहा, 'मैं एक लोकतांत्रिक व्यक्ति हूं और मैं दूसरे व्यक्ति को बोलने की अनुमति दूंगा.' इसके बाद ओम बिरला भड़क गए और उन्होंने राहुल गांधी को फटकार लगाई.

अमीरों और गरीबों के लिए दो हिंदुस्तान बन गए: राहुल गांधी

राहुल गांधी ने बुधवार को आरोप लगाया कि नरेंद्र मोदी सरकार में दो हिंदुस्तान बन गए हैं, जिनमें से एक अमीरों और दूसरा गरीबों के लिए है. संसद के दोनों सदनों की संयुक्त बैठक में राष्ट्रपति के अभिभाषण पर लोकसभा में धन्यवाद प्रस्ताव पर हो रही चर्चा में भाग लेते हुए राहुल गांधी ने यह दावा भी किया कि देश के सामने खड़ी प्रमुख चुनौतियों का अभिभाषण में उल्लेख नहीं किया गया है. राहुल ने कहा, 'प्रधानमंत्री को सुझाव देता हूं कि दो हिन्दुस्तान को साथ लाने की दिशा में काम करें, जिन्हें उनकी सरकार ने सृजित किया है.ट'

'मोदी सरकार ने अपनी नीतियों से देश को बड़े खतरे में डाला'

राहुल गांधी ने पीएम मोदी पर निशाना साधते हुए कहा कि देश को 'शहंशाह' की तरह चलाने की कोशिश हो रही है और इस सरकार की नीतियों के चलते आज देश आंतरिक एवं बाहरी मोर्चों पर 'बड़े खतरे' का सामना कर रहा है. उन्होंने कहा, 'मेरे परनाना (जवाहरलाल नेहरू) इस राष्ट्र को बनाने के लिए ही 15 साल तक जेल में रहे, मेरी दादी (इंदिरा गांधी) को 32 गोलियां मारी गईं और मेरे पिता (राजीव गांधी) को विस्फोट से उड़ा दिया गया. इन्होंने इस राष्ट्र को बनाने के लिए अपनी कुर्बानी दी. इसलिए मैं थोड़ा बहुत जानता हूं कि राष्ट्र क्या है. आप खतरे से खेल रहे हैं. मेरी सलाह है कि रुक जाइए.'

SUBSCRIBE TO OUR NEWSLETTER