कोरोना वायरस / कोविड-19 केस बढ़ने के बीच दिल्ली में येलो अलर्ट जारी; स्कूल, सिनेमाघर व जिम किए गए बंद

Zoom News : Dec 28, 2021, 05:22 PM
नई दिल्ली: कोविड-19 के बढ़ते मामलों के बीच दिल्ली आपदा प्रबंधन प्राधिकरण ने मंगलवार को स्कूलों, कॉलेजों, सिनेमाघरों, जिम और स्पा को तत्काल प्रभाव से बंद करने का आदेश दिया और दुकानों और सार्वजनिक परिवहन के कामकाज पर कई तरह की पाबंदियां लगा दीं। ग्रेडेड रिस्पांस एक्शन प्लान (GRAP) के तहत मंगलवार को 'येलो अलर्ट' (Yellow Alert in Delhi) जारी कर दिया गया है।

'येलो अलर्ट' के तहत रात 10 बजे से सुबह 5 बजे तक नाइट कर्फ्यू रहेगा। इसके साथ ही दिल्ली मेट्रो, रेस्तरां, बार 50% क्षमता के साथ संचालित होंगे। सिनेमा हॉल, स्पा, जिम, मल्टीप्लेक्स, बैंक्वेट हॉल, ऑडिटोरियम और स्पोर्ट्स कॉम्प्लेक्स तत्काल प्रभाव से बंद कर दिए गए हैं। 'येलो अलर्ट' प्रतिबंधों के तहत गैर-आवश्यक वस्तुओं और सेवाओं की दुकानें, प्रतिष्ठान और मॉल ऑड-ईवन फॉर्मूले के आधार पर सुबह 10 बजे से रात 8 बजे तक खुलेंगे। सोमवार रात से लगाए गए नाइट कर्फ्यू का समय भी एक घंटे के लिए बढ़ा दिया गया है और अब यह रात 10 बजे से शुरू होगा। डीडीएमए द्वारा जारी आदेश में कहा गया है कि रात 10 बजे से सुबह 5 बजे तक रात का कर्फ्यू अगले आदेश तक लागू रहेगा।

शादी और अंत्येष्टि में 20 व्यक्तियों के शामिल होने की अनुमति

इसके साथ ही शादी और अंत्येष्टि में 20 व्यक्तियों के शामिल होने की अनुमति होगी, जबकि सामाजिक, राजनीतिक, सांस्कृतिक, धार्मिक और त्योहार के आयोजनों से संबंधित अन्य सभी प्रकार के जमावड़े पर प्रतिबंध रहेगा। साथ ही, दिल्ली मेट्रो अपनी बैठने की क्षमता के 50 प्रतिशत पर चलेगी, जबकि ऑटो-रिक्शा और कैब में दो यात्री सवार हो सकते हैं। जीआरएपी का कहना है कि छूट प्राप्त श्रेणी के यात्रियों के साथ बसें भी क्षमता के 50 प्रतिशत पर चलेंगी।

'येलो अलर्ट' प्रतिबंध यह निर्धारित करता है कि 50 प्रतिशत विक्रेताओं के साथ प्रति क्षेत्र केवल एक साप्ताहिक बाजार को खोलने की अनुमति होगी। सुबह 8 बजे से रात 10 बजे तक 50 प्रतिशत क्षमता वाले रेस्तरां की अनुमति होगी, जबकि बार भी उसी क्षमता के साथ संचालित हो सकते हैं, लेकिन दोपहर 12 बजे से रात 10 बजे तक। इसके अलावा, सिनेमा हॉल, बैंक्वेट हॉल, स्पा, जिम, आउटडोर योग गतिविधि, मनोरंजन पार्क, स्टेडियम, स्विमिंग पूल, स्कूल, कॉलेज और शैक्षणिक संस्थानों को 'येलो अलर्ट' जारी होने पर अनुमति नहीं दी जाएगी।

निजी ऑफिस 50 प्रतिशत तक कर्मचारियों के साथ काम कर सकते हैं। दिल्ली सरकार के कार्यालयों में भी, कुछ श्रेणी के अधिकारियों को छोड़कर, शेष कर्मचारियों में से केवल आधे को ही 'येलो अलर्ट' के तहत अनुमति दी जाएगी। धार्मिक स्थल खुलेंगे, लेकिन विजिटर्स की अनुमति नहीं होगी। हालांकि, पार्क और उद्यान खुल सकते हैं।

केजरीवाल ने हाई लेवल मीटिंग में की कोविड स्थिति की समीक्षा

मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल ने दिल्ली में कोविड-19 संक्रमण के मामले बढ़ने पर आज कहा कि दिल्ली में 'येलो अलर्ट' जारी किया गया है और कुछ पाबंदियां भी बढ़ाई जाएंगी। मुख्यमंत्री ने एक हाई लेवल मीटिंग में कोविड स्थिति की समीक्षा करने के बाद कहा कि दिल्ली में संक्रमण के मामले बहुत तेजी से बढ़ रहे हैं, लेकिन घबराने की कोई जरूरत नहीं है क्योंकि ज्यादातर लोगों में बीमारी के हल्के लक्षण हैं।

'येलो अलर्ट' तब जारी किया जाता है जब कोविड संक्रमण दर लगातार दो दिनों तक 0.5 प्रतिशत से अधिक रहती है। दिल्ली में पिछले दो दिनों से संक्रमण दर 0.5 प्रतिशत से अधिक है। केजरीवाल ने कहा कि यह दुर्भाग्यपूर्ण है कि लोग मास्क पहने बिना बाजार और मॉल जा रहे हैं तथा उन्होंने लोगों से कोविड उपयुक्त व्यवहार का पालन करने की अपील की।

उन्होंने कहा कि दिल्ली में संक्रमण के मामले बढ़ रहे हैं, लेकिन मेडिकल ऑक्सीजन के इस्तेमाल में वृद्धि नहीं हुई है तथा अस्पतालों में बेड्स या आईसीयू बेड्स की मांग नहीं बढ़ी है जिसका मतलब है कि ज्यादातर लोगों का घर पर ही इलाज हो रहा है। 'येलो अलर्ट' के तहत नाइट कर्फ्यू लगाना, स्कूलों तथा कॉलेजों को बंद करना, गैर आवश्यक सामान की दुकानों को ऑड-ईवन आधार पर खोलना और मेट्रो ट्रेनों तथा सार्वजनिक परिवहन की बसों में यात्रियों के बैठने की क्षमता आधी करने जैसे उपाय आते हैं।

दिल्ली में ओमिक्रॉन के मामले बढ़कर 165 हुए 

दिल्ली में कोरोना वायरस संक्रमण के नए वैरिएंट ओमिक्रॉन के मामले बढ़कर अब 165 हो गए हैं। केन्द्रीय स्वास्थ्य मंत्रालय की ओर से मंगलवार को जारी किए गए आंकड़ों में यह जानकारी दी गई। दिल्ली स्वास्थ्य विभाग के अनुसार, ओमिक्रॉन के बढ़ते प्रकोप के बीच दिल्ली में सोमवार को कोविड-19 के 331 नए मामले सामने आए, जो नौ जून के बाद एक दिन में सामने आए सर्वाधिक मामले हैं। वहीं, दैनिक संक्रमण दर भी बढ़कर 0.68 प्रतिशत हो गई।

केन्द्रीय स्वास्थ्य मंत्रालय की ओर से मंगलवार को जारी आंकड़ों के अनुसार, भारत के 21 राज्यों और केन्द्र शासित प्रदेशों में ओमिक्रॉन वैरिएंट के 653 मामले सामने आ चुके हैं, जिनमें से 186 लोग स्वस्थ हो चुके हैं या अन्य स्थानों पर चले गए हैं।

आंकड़ों के अनुसार, ओमिक्रॉन वैरिएंट के महाराष्ट्र में सर्वाधिक 167 मामले सामने आए हैं। इसके बाद दिल्ली में 165, केरल में 57, तेलंगाना में 55, गुजरात में 49 और राजस्थान में 46 मामले सामने आए हैं। बत्रा अस्पताल के अधिकारियों के अनुसार, अस्पताल में ओमिक्रॉन के पांच मरीज भर्ती हैं। अस्पताल में भर्ती अन्य सात संक्रमितों की जीनोम सिक्वेंसिंग रिपोर्ट अभी तक नहीं आई है। इनके अलावा, ओमिक्रॉन से संक्रमित पाए गए सात लोगों को ठीक होने के बाद अस्पताल से छुट्टी दे दी गई।

अधिकारियों ने बताया कि इनमें से किसी में भी संक्रमण का कोई लक्षण नहीं है, हालांकि सभी ने हाल ही में यात्रा की थी। अस्पताल में भर्ती 14 मरीजों में से 11 लोग 'फाइजर' के कोविड-19 रोधी टीके की तीन खुराक ले चुके हैं। एक संक्रमित ने 'जॉनसन एंड जॉनसन' का टीका लगवाया था, जबकि अन्य दो को क्रमश: 'कोविशील्ड' और 'कोवैक्सीन' के टीके लगे थे।

सूत्रों ने बताया कि सर गंगा राम अस्पताल की नगर अस्पताल इकाई में भी ओमिक्रॉन के चार संदिग्ध मरीज भर्ती हैं। इनमें से दो फ्रांस, एक ब्रिटेन और एक घाना से आया व्यक्ति है। इनके नमूनों की जीनोम सिंक्वेंसिंग की रिपोर्ट अभी नहीं आई है। वहीं, लोक नायक जय प्रकाश अस्पताल में भर्ती मरीजों की जानकारी अभी नहीं मिल पाई है। दिल्ली में पांच दिसंबर को ओमिक्रॉन का पहला मामला सामने आया था। तंजानिया से दिल्ली लौटा 37 वर्षीय व्यक्ति इससे संक्रमित पाया गया था। अब उसे अस्पताल से छुट्टी मिल चुकी है।  

SUBSCRIBE TO OUR NEWSLETTER