देश / राहुल गांधी के इमरती देवी विवाद पर नाराजगी जताने के बाद, कमलनाथ ने माफ़ी मांगने से किया इनकार

Zoom News : Oct 20, 2020, 03:34 PM
नई दिल्ली | कांग्रेस पार्टी के पूर्व अध्यक्ष राहुल गांधी ने मध्य प्रदेश में बीजेपी नेता इमरती देवी पर कमलनाथ की आपत्तिजनक टिप्पणी को लेकर पर नाराजगी जाहिर की है। राहुल गांधी ने मंगलवार को प्रेस कॉन्फ्रेंस में पत्रकारों से बात करते हुए कहा कि जिस तरह की भाषा का इस्तेमाल कमलनाथ ने किया वह उन्हें पसंद नहीं और वह इसे बढ़ावा नहीं देते हैं, चाहे कोई भी हो। हालांकि, राहुल ने यह नहीं कहा कि पार्टी कमलनाथ के खिलाफ कोई ऐक्शन लेगी या नहीं। इस बीच कमलनाथ ने कहा है कि यह राहुल गांधी की राय है और वह माफी नहीं मांगेंगे।

राहुल गांधी ने कहा, ''कमलनाथ जी मेरी पार्टी से हैं, लेकिन व्यक्तिगत तौर पर मैं इस तरह की भाषा को पसंद नहीं करता, जिसे कमलनाथ जी ने इस्तेमाल किया। मैं इसकी तारीफ नहीं करता, चाहे कोई भी हो। यह दुर्भाग्यपूर्ण है।'' पत्रकारों ने राहुल गांधी से कमलनाथ की उस टिप्पणी को लेकर सवाल किया था जिसमें उन्होंने मध्य प्रदेश की महिला मंत्री को आइटम बताया था। 

राहुल गांधी ने कहा, ''मैं सोचता हूं कि हमारे देश में महिलाओं के साथ व्यवहार में हर स्तर पर सुधार की जरूरत है, चाहे कानून व्यवस्था की बात हो या उनके सम्मान की, या फिर बिजनेस, सरकार या दूसरे क्षेत्रों में उन्हें जो जगह दी जा रही है...हमारी महिलाएं हमारा गर्व हैं और उनकी रक्षा होनी चाहिए। कोई भी हो... मैं इस तरह की भाषा पंसद नहीं करता।''

कमलनाथ ने कहा, ''अब वह राहुल जी की राय है, उनको जो समझाया गया कि किस संदर्भ में मैंने ये कहा था। मैंने तो साफ कर दिया मैंने किस संदर्भ में कहा था, इसमें और कहने की आवश्यकता नहीं है।'' क्या आप माफी मांगेंगे इमरती देवी से? इसके जवाब में पूर्व सीएम ने कहा, ''मैं क्यों माफी मांगूंगा, मेरा लक्ष्य नहीं था किसी को अपमानित करना। यदि कोई अपमानित अहसास करता है तो मुझे खेद है, यह तो कल मैंने कह दिया था.... शिवराज जी जनता के बीच जाएं और माफी मांगें। मैंने तो खेद व्यक्त कर दिया है। राहुल गांधी के नाराज होने को लेकर सवाल पूछे जाने पर कमलनाथ ने जवाब दिया, ''आप क्यों इसकी चिंता करते हैं।''

गौरतलब है कि कांग्रेस नेता और मध्य प्रदेश के पूर्व सीएम ने एक चुनावी सभा में बीजेपी प्रत्याशी और मंत्री इमरती देवी को आइटम कह दिया था। चारों तरफ से घिरने के बाद पहले तो कमलनाथ ने कहा कि आइटम को अपमानजनक शब्द नहीं है। उन्होंने कई अजीबो-गरीब तर्क देते हुए कहा कि विधानसभा और संसद में भी आइटम नंबर कहा जाता है। उन्होंने यह भी कहा कि वह नाम भूल गए थे और लिस्ट में आइटम नंबर 1, 2, 3 करके ही नाम लिखा जाता है। हालांकि, मंगलवार को उन्होंने अपने बयान पर खेद भी जताया।

उधर, इमरती देवी ने कांग्रेस अध्यक्ष सोनिया गांधी से गुहार लगाई थी कि कमलनाथ को पार्टी के सभी पदों से हटा दिया जाए। मध्य प्रदेश के सीएम शिवराज सिंह चौहान और ज्योतिरादित्य सिंधिया ने सोमवार को मौन उपवास भी रखा था। उन्होंने कहा था कि कमलनाथ को प्रदेश की हर बेटी से माफी मांगनी चाहिए।

SUBSCRIBE TO OUR NEWSLETTER