देश / सोशल डिस्टेंसिंग का पालन ना करने और महामारी एक्ट के तहत किसानों के खिलाफ एफआईआर दर्ज

Zoom News : Dec 11, 2020, 06:44 AM
Delhi: पुलिस ने कृषि कानूनों के खिलाफ सिंघू सीमा की लाल बत्ती पर धरने पर बैठे किसानों के खिलाफ प्राथमिकी दर्ज की है। किसानों के खिलाफ सामाजिक गड़बड़ी का पालन नहीं करने और महामारी अधिनियम और अन्य धाराओं के तहत मामला दर्ज किया गया है। 29 नवंबर को, किसानों ने जबरन लामपुर सीमा से दिल्ली की सीमा में प्रवेश किया और सिंघू सीमा की लाल बत्ती पर बैठ गए। वे सड़क पर जाम लगा रहे हैं। किसानों के खिलाफ एफआईआर 7 दिसंबर को अलीपुर पुलिस स्टेशन में दर्ज की गई थी।

बता दें कि केंद्र सरकार के कृषि कानूनों के खिलाफ सिंघू सीमा पर किसानों का आंदोलन 15 दिनों से चल रहा है। किसानों की मांग है कि सरकार कृषि कानूनों को वापस ले। वहीं, सरकार संशोधन के लिए तैयार है। सरकार स्पष्ट रूप से कहती है कि वह तीनों कानूनों को वापस नहीं लेगी। दोनों पक्ष अपने रुख पर अड़े हुए हैं, जिसके कारण संघर्ष बढ़ रहा है। सरकार किसानों को समझाने की कोशिश कर रही है, लेकिन किसान अपनी मांगों से पीछे हटने को तैयार नहीं हैं।

किसान संगठनों ने यहां तक ​​कहा कि अब सरकार के साथ कोई बातचीत नहीं होगी, क्योंकि इतने दिनों तक केवल चर्चा ही होती है। सरकार को अब हमारी मांगों पर फैसला लेना चाहिए।

सरकार और किसान बात नहीं कर रहे हैं

गुरुवार को केंद्र सरकार द्वारा किसानों को समझाने का प्रयास किया गया। कृषि मंत्री नरेंद्र सिंह तोमर ने किसानों को समझाया कि बनाए गए कानून उनके पक्ष में हैं और अगर कोई समस्या है तो सरकार इस पर विचार करने के लिए तैयार है। कृषि मंत्री ने किसानों से प्रस्तावों पर पुनर्विचार करने की अपील की।

कृषि मंत्री की अपील पर, किसान नेताओं ने कहा कि अतीत में बहुत सारी बातें हुई हैं। कानून रद्द करने से कम पर समझौता करने का कोई सवाल ही नहीं है। किसानों की ओर से कहा गया था कि सरकार बार-बार जोर देकर कहती है कि ये कानून किसानों के लिए फायदेमंद हैं, लेकिन सरकार कानूनों के विरोध में सवालों के स्पष्ट जवाब देने से बच रही है।

किसान नेता राकेश टिकैत ने कहा कि हम कृषि कानून को निरस्त करना चाहते हैं। जब तक तीन कानूनों को निरस्त नहीं किया जाता, हमारा आंदोलन समाप्त नहीं होगा। हमने सरकार से एमएसपी पर कानून बनाने के लिए कहा, सरकार ने ऐसा नहीं किया। अब कोई बातचीत नहीं होगी। बहुत पहले चर्चा हो चुकी है

SUBSCRIBE TO OUR NEWSLETTER