Kenya Government / केन्या में प्रदर्शनकारी संसद में घुसे, अब तक 10 की मौत, टैक्स को लेकर हो रहा बवाल

Vikrant Shekhawat : Jun 25, 2024, 09:08 PM
Kenya Government: केन्या में टैक्स बढ़ाने वाले फाइनेंस बिल के विरोध में प्रदर्शनकारी मंगलवार को संसद में घुस गए. यहां उपद्रवियोंं ने जमकर उत्पात मचाया. संसद के एक हिस्से में आग भी लगा दी. प्रदर्शनकारियों का गुस्सा देख सांसद सदन छोड़कर भाग गए. इससे पहले सोमवार को भी सुरक्षाबलों और प्रदर्शनकारियों के बीच कई झड़पें हुईं थीं. अब तक इन झड़पों में 10 लोगों की मौत हो गई, जबकि 50 से ज्यादा लोग घायल हो गए.

केन्या की सरकार ने ब्रेड पर 16 प्रतिशत और मोटर वाहनों पर 2.5 प्रतिशत वैट लगाया है. इसी के विरोध में प्रदर्शनकारी सड़कों पर उतर आए हैं. मंगलवार को नेरोबी में ये प्रदर्शनकारी जबरदस्ती संसद में घुस गए. यहां प्रदर्शनकारियों ने संसद भवन के एक हिस्से में आग भी लगा दी. प्रदर्शनकारियों में संसद में घुसते ही सभी सांसद सदन से भाग गए.

संसद में बिल पास होते ही भड़के लोग

केन्या में मंगलवार को लोग एकदम से उस वक्त भड़क गए जब उन्हें यह खबर मिली कि संसद में बिल पेश हो गया है. इसके बाद प्रदर्शनकारी अचानक बेकाबू हो गए और संसद में घुस गए. गुस्साए लोगों ने संसद के एक हिस्से में आग लगा दी. इसके बाद सांसद वहां से निकल गए. कुछ सांसद प्रदर्शनकारियों के बीच फंसे तो सुरक्षाकर्मियों ने उन्हें बाहर निकाला.

प्रदर्शनकारियों और पुलिस के बीच झड़प

पुलिस और प्रदर्शनकारियों के बीच कई झड़पें हुईं. इसमें हजारों लोगों ने हिस्सा लिया. उनकी मांग थी कि सांसद एक विवादास्पद वित्त विधेयक के खिलाफ मतदान करें. यह प्रदर्शन पिछले दो सप्ताह से किए जा रहे हैं. हालांकि सोमवार और मंगलवार को यह प्रदर्शन हिंसक हो गए. इस बीच सुरक्षाकर्मी और प्रदर्शनकारियों के बीच कई झड़पें भी हुईं. इसमें 10 लोगों की मौत की खबर है, जबकि 50 से ज्यादा लोग घायल हुए हैं.

मानवाधिकार आयोग ने जारी किया वीडियो

केन्या मानवाधिकार आयोग ने मंगलवार को अधिकारियों द्वारा प्रदर्शनकारियों पर गोली चलाने का एक वीडियो साझा किया और कहा कि उन्हें जवाबदेह ठहराया जाएगा. आयोग ने एक्स पर राष्ट्रपति विलियम रुटो को संबोधित करते हुए लिखा, दुनिया आपको अत्याचार की ओर बढ़ते हुए देख रही है! आपकी सरकार के कार्य लोकतंत्र पर हमला हैं. गोलीबारी में प्रत्यक्ष या परोक्ष रूप से शामिल सभी लोगों को जिम्मेदार ठहराया जाना चाहिए.

SUBSCRIBE TO OUR NEWSLETTER