देश / गवाह का आरोप, एनसीबी व गोसावी ने आर्यन की रिहाई के लिए मांगे ₹25 करोड़; एनसीबी का इनकार

Zoom News : Oct 24, 2021, 05:54 PM
मुंबई: बॉलीवुड सुपरस्टार शाहरुख खान के बेटे आर्यन खान (Shah Rukh Khan Son Aryan Khan) के ड्रग्स केस (Aryan Khan case) में नई चौंकाने वाले जानकारी सामने आ रही है. किरण गोसावी (Kiran Gosavi) के बॉडीगार्ड रहे प्रभाकर सैल ने एक हलफनामे में कई चौंकाने वाले दावे किए हैं.

प्रभाकर ने आजतक से एक्सक्लूसिव बातचीत में बताया है कि गोसावी ने आर्यन खान को छोड़ने के लिए 25 करोड़ रुपये की मांग की थी. सैल के हलफनामे के मुताबिक, ये मांग गोसावी ने एनसीबी चीफ समीर वानखेड़े की ओर से की थी. बता दें कि प्रभाकर इस क्रूज ड्रग्स केस में एनसीबी के गवाह भी हैं.

पूजा डडलानी से हुई थी मुलाकात!

प्रभाकर सैल ने अपने नोटरीकृत हलफनामे में बताया है कि वह क्रूज रेड के बाद हुए ड्रामे के समय मौजूद थे. उन्होंने किरण गोसावी और सैम नाम के एक शख्स को एनसीबी के दफ्तर के पास मिलते देखा था. सैल ने दावा किया है कि गोसावी और सैम लोअर परेल गए थे, जहां एक ब्लू कलर की गाड़ी वहां आई. प्रभाकर सैल का दावा है कि उन्होंने शाहरुख खान की मैनेजर पूजा डडलानी को उस ब्लू गाड़ी में बैठे देखा था. 

वानखेड़े को दिए जाने थे 8 करोड़

प्रभाकर सैल के मुताबिक, गोसावी और सैम ने अपनी बातचीत में 25 करोड़ रुपये की मांग की थी, लेकिन 18 करोड़ में मामला सेटल करने को राजी हो गए थे. गोसावी ने कथित रूप से कहा था कि इस 18 करोड़ में से 8 करोड़ समीर वानखेड़े को जाएंगे और बाकी बचे पैसे दूसरों में बंटेंगे. इसकी अगली सुबह प्रभाकर सैल को टोरेडो भेजा गया था, जहां उनसे एक सफेद गाड़ी से 50 लाख रुपए लिए थे. 

लेकिन गोसावी ने सैल को वापस होटल भेज दिया था, जहां उसने पैसे सैम को वापस किए. वहां सैम ने कहा कि पैसों में 12 लाख रुपये कम हैं और यह सिर्फ 38 लाख हैं. इसके बाद सैम ने गोसावी से बात की, जिसने जवाब में उसे पैसे 2 से 3 दिन में लौटाने का वादा किया था. 

एनसीबी से आया बयान 

एनसीबी के मुथा अशोक जैन ने एक बयान जारी कर कहा है- प्रभाकर सैल ने एनसीबी की मुंबई जोनल यूनिट के क्राइम नंबर 94/2021 के चश्मदीद हैं. मुझे सोशल मीडिया के जरिए एक एफिडेविट मिला है. इसमें प्रभाकर सैल ने 2 अक्टूबर को हुई बातों की डिटेल दी हैं. यह मामला कोर्ट में चल रहा है. ऐसे में इस केस के एक चश्मदीद के तौर पर उन्हें कोर्ट के सामने इसे जमा करने की जरूरत है, ना कि सोशल मीडिया पर. प्रभाकर द्वारा कुछ लोगों पर बातों को सुनने के आधार पर इल्जाम लगाए गए हैं. 

हमारे जोनल डायरेक्टर समीर वानखेड़े इन इल्जामों को सिरे से ख़ारिज करते हैं. एफिडेविट में कुछ चीजें चौंकाने वाली हैं. ऐसे में मैं इस एफिडेविट को डायरेक्टर जनरल नारकोटिक्स कंट्रोल ब्यूरो को बढ़ा रहा हूं और उनसे दरख्वास्त करता हूं कि इसपर जरूरी एक्शन लें. 

गोसावी ने आर्यन की करवाई थी किसी से बात

अपने हलफनामे में प्रभाकर सैल ने बताया है कि उससे पंचनामा पेपर बताकर खाली कागज (Blank paper) पर जबरन साइन करवाया गया था. उसे इस गिरफ्तारी के बारे में नहीं पता था. प्रभाकर ने एक हलफनामा तैयार किया था जिसमें उसने दावा किया कि वो इस क्रूज रेड के बाद हुए ड्रामे का गवाह है. इस ड्रग्स में पंच प्रभाकर का दावा है कि वो किरण गोसावी के पास बॉडीगार्ड के रूप में काम करता था. 

प्रभाकर ने रेड के समय की कुछ वीडियो भी बनाई हैं और तस्वीरें खींची हैं. इसमें से एक वीडियो में गोसावी को फोन पकड़े देखा जा सकता है. उसका फोन स्पीकर पर है और वो आर्यन की किसी से बात करवा रहा है.

जेल में राम-सीता की कहानियां पढ़कर समय काट रहे Aryan Khan, लाइब्रेरी से ली 2 किताबें

प्रभाकर के इन इल्जामों के बाद कई बड़े सवाल खड़े हो गए हैं. 

1. एनसीबी का कहना है कि गोसावी एक स्वतंत्र पंच है. तो स्वतंत्र पंच को रेड और गिरफ्तारी में जाने को कैसे मिला?

2. गोसावी के फोन पर आर्यन खान की बात किससे हुई थी? दोनों के बीच क्या बातचीत हुई?

3. सैम कौन है?

4. क्या सही में शाहरुख की मैनेजर पूजा डडलानी, गोसावी और सैम से लोअर परेल में मिली थीं? यह मीटिंग किस बारे में थी?

5. गोसावी का बॉडीगार्ड जिन 50 लाख रुपये के बारे में बोल रहा है वो क्या सही में दिए गए थे? अगर हां, तो ये पैसे किसने दिए थे?

शाहरुख की टीम ने नहीं दिया कोई जवाब

शाहरुख खान के वकीलों ने इस पूरी बात पर अपना रिएक्शन देने से मना कर दिया है.

SUBSCRIBE TO OUR NEWSLETTER