Biparjoy Cyclone / जखौ में तट से टकराया बिपरजॉय- बिजली के खंभे गिरे, हजारों मकानों की छतें उड़ीं

Zoom News : Jun 15, 2023, 06:57 PM
Cyclone Biparjoy: अरब सागर में उठा चक्रवाती तूफान बिपरजॉय गुजरात के समुद्री तटों से टकरा चुका है। लैंडफाल के बाद तबाही का मंजर दिखना शुरू हो गया है। जगह-जगह बिजली के खंभे और पेड़ गिरे हैं। करीब 500 से ज्यादा बिजली के खंभे गिरे हैं। गुजरात के समुद्री तटवर्ती जिलों में इस वक्त हवा की रफ्तार 100 किलोमीटर से भी ज्यादा है। जो तस्वीरें सामने आ रही हैं। उन्हें देखकर साफ है कि चक्रवात बिपरजॉय बेहद खतरनाक हो चुका है। मौसम विभाग ने बताया कि जखौ में 100 किलो मीटर तक नुकसान हुआ है।

लैंडफॉल आधी रात तक रहेगा जारी

समुद्र में उठ रहीं लहरें 5 मीटर तक ऊंची जा रही हैं। मौसम विभाग की मानें तो बिपरजॉय का लैंडफॉल आधी रात तक जारी रहेगा। बताया जा रहा है कि गुजरात के सौराष्ट्र और कच्छ के तट पर रेड अलर्ट जारी किया गया है। हालात ये है कि कच्छ और द्वारका में बिजली काट दी गई है। हवा की रफ्तार लगातार तेज हो रही है और बारिश भी उतनी ही तेज हो रही है। इस वक्त द्वारका, मांडवी, कच्छ, सोमनाथ, हर तरफ मूसलाधार बारिश हो रही है। 

तबाही की तस्वीरें आना शुरू

मौसम विभाग ने बताया कि द्वारका में भी पेड़ गिरे हैं और जखौ में जीरो विजिबिलिटी है। वहीं कच्छ के भुज नालिया नेशनल हाईवे पेड़ गिरने के कारण बंद हो गया है। NDRF की 27 टीमें तटवर्ती इलाकों में तैनात की गई हैं। मौसम विभाग के DG मृत्युजंय महापात्र ने कहा है कि बिपरजॉय तूफान इस वक्त अपने सबसे खतरनाक रूप में है। 150 किलोमीटर प्रति घंटे की रफ्तार से तूफानी हवाएं चल रही हैं। मौसम विभाग के मुताबिक सबसे ज्यादा नुकसान जाखौ पोर्ट के आसपास के सौ किलोमीटर के इलाके में हो सकता है। इस दौरान विंड स्पीड 120 से 140 किलोमीटर के आसपास रहने का अनुमान है। इस तूफानी बवंडर से तबाही की तस्वीरें आनी भी शुरू हो गई हैं।

पेड़ टूटे, बिजली के खंभे गिरे

वहीं द्वारिका में दर्जनों पेड़ उखड़ने की तस्वीरें आ रही हैं। हालांकि रेस्क्यू टीम के लोग तुरंत आरियों से पेड़ काट रहे हैं, जिससे राहत और बचाव अभियान में किसी तरह की मुश्किल ना आ सके। बिजली के खंबे भी उखड़ गए हैं। हालांकि प्रशासन की तरफ से तूफान प्रभावित इलाकों में बिजली पहले ही काट दी गई थी, मकानों और दुकानों पर लगे होर्डिंग भी उखड़ने लगे हैं।

हजारों मकानों की छतें उड़ गईं

अब तक मिली जानकारी के मुताबिक करीब 2000 कच्चे मकानों की छतें उड़ गई हैं। सरकार ने एक लाख लोगों को पहले ही सुरक्षित इलाकों में पहुंचा दिया था। तूफान प्रभावित शहरों में जो लोग अपने पक्के घरों में रुकें हैं, वो भी पूरी तरह खिड़कियां और दरवाजे बंद करके एक तरह से अपने घरों में कैद हैं। सरकार की तरफ से अपील की जा रही है कि जब तक प्रशासन ना कहे तब तक लोग बाहर ना निकलें।

गुजरात मेंलैंडफाल शुरू हो चुका है. तूफान का केंद्र कच्छ का जखाऊ पोर्ट है. यहां पहुंचने में बिपरजॉय को 2 से 3 घंटे लगेंगेय पूरी प्रक्रिया 5 से 6 घंटे चलेगी. अगले 5 से 6 घंटे सौराष्ट्र और कच्छ के लिए बेहद चुनौतीपूर्ण रहने वाले हैं.

चक्रवाती तूफान बिपरजॉय गुजरात के तट से टकराया

चक्रवाती तूफान बिपरजॉय आखिरकार तेज हवा-बारिश के बीच गुजरात के तट से टकराया है. इस दौरान हवाओं की रफ्तार 150 किलोमीटर प्रति घंटा तक जा सकती हैं.

140kmph की रफ्तार से चल सकती हैं हवाएं- IMD

आईएमडी ने बताया है कि लैंडफॉल के दौरान हवा की रफ्तार 140 किलो मीटर प्रति घंटा तक जा सकती है. तूफान की वजह से गुजरात के कई जिलों में भारी बारिश की आशंका है.

मोरबी में भारी बारिश के साथ तेज़ आंधी

गुजरात के मोरबी में चक्रवात बिपरजॉय के प्रभाव से भारी बारिश के साथ तेज़ आंधी चल रही है. वहीं, द्वारका नगर पालिका के अग्निशमन अधिकारी जितेंद्र कराडिया ने बताया है कि हम मौके पर मौजूद हैं. हम मशीन से पेड़ को हटाने की कोशिश कर रहे हैंय गांव भर से हमें अब तक पेड़ गिरने, मकान की छत गिरने की कई फरियाद मिल चुकी है. हम बचावकार्य में जुटे हैं.

15 kmph की रफ्तार से आगे बढ़ रहा बिपरजॉय- IMD

आईएमडी के डीजी मृत्युंजय महापात्रा ने बताया है कि तूफान बिपरजॉय 15 किलोमीटर प्रति घंटे की रफ्तार से आगे बढ़ रहा है. गुजरात के तट पर लैंडफॉल शुरू हो गया है, जो रात करीब 12 बजे तक जारी रहेगा.

बिपरजॉय पर बैठक कर रहे हैं गृह मंत्री शाह

केंद्रीय गृह मंत्री अमित शाह बिपरजॉय तूफान को लेकर बैठक कर रहे हैं. इस बैठक का आयोजन गृह मंत्रालय में किया जा रहा है. बैठक में मंत्रालय के अधिकारी भी मौजूद हैं. गुजरात के मुख्यमंत्री भुपेंद्र पटेल, राज्य के गृह मंत्री हर्ष संघवी से पल पल जानकारी की ले रहे हैं. एनडीआरएफ के डीजी और अन्य बचाव दल के अधिकारियों भी बैठक में हैं. गृह मंत्री अमित शाह हालात पर नजर बनाए हुए हैं.

चक्रवात 80 KM दूर

गुजरात तट से बिपरजॉय तूफान 80 KM दूर है. फिलहाल एनडीआरएफ की टीमें मौके पर मौजूद हैं. साथ ही लोगों को तटों से दूर रहने को कहा गया है.

चक्रवात के लिए इंडियन कोस्ट गार्ड तैयार

चक्रवात बिपरजॉय को देखते हुए इंडियन कोस्ट गार्ड पूरी तरह से तैयार है. 15 जहाजों को तैनात किया गया है. समुद्र में किसी भी रेस्क्यू ऑपरेशन के लिए 7 एयरक्राफ्ट भी तैयार हैं. ओखा, जखाऊ और वाडिनार में हेलो ऑपरेशन फैसिलिटी को भी एक्टिवेट कर दिया गया है. गुजरात में मौजूद कोस्ट गार्ड के स्टेशन पूरी तरह से तैयार हैं.

सीनियर डीआईजी रैंक के अधिकारी कच्छ जिले में मुंद्रा में हैं, ताकि हालात का जायजा लिया जा सके. 23 आपदा राहत दल गठित किए गए हैं. 29 जेमिनी जहाज, 1000 लाइफ जैकेट की भी व्यवस्था की गई है.

गुजरात की ओर भेजे गए सेना के जवान

गुजरात में चक्रवात बिपरजॉय को देखते हुए सेना, नौसेना और वायुसेना को राहत और बचाव कार्य के लिए राज्य की ओर रवाना किया जा रहा है. फिलहाल चक्रवात गुजरात से 100 किमी दूर है.

SUBSCRIBE TO OUR NEWSLETTER