COVID-19 Update / ब्रिटेन में कोरोना वायरस का नया स्ट्रेन, भारत में राहत, नही है अभी तक कोई केस

Zoom News : Dec 22, 2020, 07:21 AM
Delhi: ब्रिटेन में कोरोना वायरस का एक नया स्ट्रेन पाया गया है। कोरोना का नया स्ट्रेन पहले वायरस की तुलना में बहुत तेजी से फैलने में सक्षम है। यही कारण है कि सभी देश सतर्क हो गए हैं। भारत सहित कई देशों ने कुछ दिनों के लिए ब्रिटेन से और के लिए उड़ानें निलंबित कर दी हैं। इस बीच, एम्स के निदेशक रणदीप गुलेरिया ने इस वायरस को लेकर खास बातचीत की।

बातचीत के दौरान, उन्होंने कहा कि ब्रिटेन ने कोरोना वायरस के एक नए उत्परिवर्तन को देखा है। उन्होंने देखा है कि कोरोना का यह नया उत्परिवर्तन जो लंदन और दक्षिण ब्रिटेन में पाया गया है, उन्होंने देखा है कि जहां भी यह उत्परिवर्तन हुआ है, कोरोना के मामले तेजी से बढ़े हैं। इसलिए इसका परिणाम यह हुआ है कि यह अधिक तेजी से फैल रहा है। लेकिन रोगियों की गंभीरता में वृद्धि नहीं हुई है, इसलिए हमें यह ध्यान रखना होगा कि यदि यह वायरस एक व्यक्ति से दूसरे व्यक्ति में अधिक तेजी से फैलता है, तो जहां भी जाता है, कोरोना के मामले बढ़ सकते हैं। इसलिए यह महत्वपूर्ण है कि हम इसे अन्य देशों में फैलने की अनुमति नहीं देते हैं, यही कारण है कि कई देशों ने यूके के लिए अपनी उड़ानें रोक दी हैं और उन सभी की निगरानी और परीक्षण शुरू कर दिया है जो वहां से आ रहे हैं।

नए तनाव के लिए भारत की तैयारी से संबंधित सवाल पर, डॉ। गुलेरिया ने कहा कि भारत में अब तक ऐसा कोई मामला प्रकाश में नहीं आया है। लेकिन अब जो मामले सामने आ रहे हैं उनका परीक्षण बहुत महत्वपूर्ण है क्योंकि अब तक हम सिर्फ यह जांच रहे थे कि कोई सकारात्मक है या नहीं। अब हमें कुछ हद तक वायरस के आनुवंशिक अनुक्रम को भी देखना होगा। खासतौर पर जो लोग यूके से आ रहे हैं, उनके पास नए स्ट्रेन का कोई आनुवांशिक क्रम नहीं है। और अगर वहाँ है, तो हम उन लोगों को अलग करते हैं, उन लोगों की निगरानी बढ़ाते हैं, उनके संपर्क का पता लगाते हैं ताकि ये तनाव हमारे समुदाय में ज्यादा न फैले

भारत के लिए यह तनाव कितना बड़ा है? इस सवाल के जवाब में, डॉ। गुलेरिया ने कहा कि हमारे मामले अब कम हो रहे हैं। हम दुनिया के कई देशों से बेहतर स्थिति में हैं। ऐसे में हमें सतर्क रहने की जरूरत है, प्रो-एक्टिव होना बहुत जरूरी है। हम नहीं चाहते हैं कि इतनी मेहनत के बाद हमें जो कुछ भी मिला है उसमें कोई कमी हो और हमारे मामले फिर से बढ़ने लगें। हर संभव प्रयास किया जाना चाहिए कि यह तनाव हमारे देश में नहीं आना चाहिए और अगर यह आता है, तो इसे नहीं फैलाना चाहिए।

कई म्यूटेशन के बाद, इस नए म्यूटेशन पर इतनी हाय-तौबा क्यों मची, इस सवाल के जवाब में डॉ। रणदीप गुलेरिया ने कहा कि इसके लिए बहुत हंगामा हो रहा है क्योंकि ब्रिटेन सरकार ने माना है कि इस म्यूटेशन के कारण वे कोरोना हैं संक्रमण तेजी से बढ़ रहा है। लेकिन हमें इसे ध्यान से देखना चाहिए। उन्होंने जो कहा है, हमने पाया है कि जहां यह तनाव अधिक पाया गया था, वहां कोरोना मामलों की अधिक रिपोर्ट थी।

डॉक्टर गुलेरिया ने आगे कहा कि, लेकिन कोरोना के अधिक मामले होने के और भी कारण हो सकते हैं, वहां अधिक भीड़ हो सकती है, लोगों ने मास्क नहीं पहने होंगे, और अन्य कारण भी हो सकते हैं। इसलिए हमें यह कहने के लिए अधिक डेटा की आवश्यकता है कि इस तनाव के साथ मामले बढ़ गए हैं। इसलिए हमें सतर्क रहने की जरूरत है, अगले कुछ दिनों में यह स्पष्ट हो जाएगा कि यह क्या कारण है। स्ट्रान में संक्रमण फैलने की अधिक संभावना है या अधिक कारणों से मामले की रिपोर्ट अधिक रही है।

SUBSCRIBE TO OUR NEWSLETTER