Lok sabha Speaker / खत्म हुआ सस्पेंस, इस तारीख को होगा लोकसभा स्पीकर का चुनाव, जानें कौन-कौन हैें दावेदार

Vikrant Shekhawat : Jun 13, 2024, 08:57 PM
Lok sabha Speaker: लोकसभा चुनाव परिणाम के समापन के बाद देश में एक बार फिर से प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के नेतृत्व में सरकार का गठन हो चुका है। पीएम मोदी के साथ ही कुल 72 नेताओं ने मंत्री पद की शपथ ली है। अब अगला पड़ाव संसद के नए सत्र का होगा जहां सभी नए निर्वाचित सांसद शपथ लेंगे। इस बीच अब लोकसभा के स्पीकर के चुनाव की तारीख भी सामने आ गई है। आइए जानते हैं कि कब होने वाला है लोकसभा अध्यक्ष का चुनाव।

कब होगा स्पीकर का चुनाव?

ताजा अपडेट के मुताबिक, लोकसभा के नए स्पीकर के लिए चुनाव 26 जून को होने जा रहा है। आपको बता दें कि देश के नए संसदीय कार्यमंत्री किरेन रिजिजू ने हाल ही मे सोशल मीडिया प्लेटफॉर्म एक्स पर संसद के नए सत्र के शुरू होने की तारीख से जुड़ी जानकारी भी शेयर की थी।

24 जून से शुरू होगा संसद का सत्र

नए संसदीय कार्यमंत्री किरेन रिजिजू ने बताया है कि 18वीं लोकसभा का पहला सत्र 24 जून से तीन जुलाई तक चलेगा। इसमें नए सदस्यों को शपथ दिलाई जाएगी। स्पीकर का चुनाव होगा। राष्ट्रपति के अभिभाषण पर चर्चा होगी। किरेन रिजिजू ने बताया कि सत्र के पहले तीन दिन में नवनिर्वाचित सदस्यों को शपथ दिलाई जाएगी। साथ ही सदन के अध्यक्ष का भी चुनाव होगा। 

कब होगा राष्ट्रपति का अभिभाषण?

भारत की राष्ट्रपति द्रौपदी मुर्मू 27 जून को दोनों सदनों की संयुक्त बैठक को संबोधित करेंगी और अगले पांच वर्षों के लिए नई सरकार के रोडमैप को पेश करेंगी। संसद के सत्र का समापन 3 जुलाई को होगा। संसद के नए सत्र में राष्ट्रपति के अभिभाषण पर चर्चा भी होगी। 

TDP और जदयू की स्पीकर पद पर नजर

17वीं लोकसभा के दौरान अध्यक्ष रहे ओम बिरला इस पद के लिए प्रमुख दावेदार हैं. ऐसी चर्चा है कि तेलुगू देशम पार्टी और जनता दल (यूनाइटेड) दोनों ही इस पद पर नजर गड़ाए हुए हैं. पूर्व अध्यक्ष जीएमसी बालयोगी के बेटे जीएम हरीश बालयोगी समेत कई टीडीपी नेताओं के नाम इस पद के लिए चर्चा में हैं, लेकिन इस संबंध में पार्टी की ओर से कोई आधिकारिक बयान नहीं आया है.

संभावित उम्मीदवारों की सूची में एक नया नाम भाजपा की आंध्र प्रदेश अध्यक्ष दग्गुबाती पुरंदेश्वरी का भी जुड़ गया है. वह टीडीपी नेता एन. चंद्रबाबू नायडू की पत्नी की बहन भी हैं और इसलिए कुछ लोग उन्हें सर्वसम्मति से उम्मीदवार मान रहे हैं. आंध्र प्रदेश के पूर्व सीएम और टीडीपी संस्थापक एनटी रामा राव की बेटी पुरंदेश्वरी 2004 और 2009 में कांग्रेस के टिकट पर लोकसभा में पहुंची थीं और इस बार राजमुंदरी से भाजपा सांसद के रूप में लौटी हैं.

स्पीकर को लेकर सस्पेंस बरकरार

दूसरी ओर, भाजपा के लिए भी अपनी ही पार्टी से अध्यक्ष होना महत्वपूर्ण है, क्योंकि सदन में सरकार के संकट का सामना करने पर उसकी महत्वपूर्ण भूमिका होती है. दलबदल की स्थिति में अध्यक्ष के पास किसी सदस्य को अयोग्य ठहराने का अधिकार भी होता है.

भाजपा ने इस लोकसभा चुनाव में केवल 240 सीटें जीती हैं और सहयोगी दलों के समर्थन से 272 बहुमत की सीमा पार की हैं. एनडीए की कुल सीटें 293 हैं. नए अध्यक्ष के चुनाव के बाद राष्ट्रपति के 27 जून को सदन को संबोधित करेंगे और उनका अभिभाषण होगा. 3 जुलाई को आर्थिक सर्वेक्षण पेश किए जाने की संभावना है. इसके बाद 22 जुलाई को पूर्ण बजट पेश किए जाने की उम्मीद है.

SUBSCRIBE TO OUR NEWSLETTER