गुजरात / हॉस्टल में सेनेटरी पैड किसने फेंका? प्रिंसिपल ने 68 छात्राओं के कपड़े उतरवाए

Jansatta : Feb 14, 2020, 03:06 PM

कच्छ | गुजरात के कच्छ जिले से एक चौंकाने वाली खबर आई है। यहां एक इंस्टीच्यूट की प्रिंसिपल ने यह जानने के लिए कि सैनेटरी पैड किसने फेंका? 68 छात्राओं के कपड़े उतार कर उनकी जांच की। इस मामले के सामने आने के बाद हड़कंप मच गया है। अब इस मामले की जांच के लिए कच्छ यूनिवर्सिटी प्रशासन ने पांच सदस्यों की एक कमेटी बनाई है। इस कमेटी में शामिल वाइस-चांसलर और तीन अन्य महिला प्रोफेसरों ने बीते गुरुवार को कॉलेज का दौरा भी किया। कमेटी के सदस्यों का कहना है कि जांच खत्म होने के बाद रिपोर्ट के आधार पर इस मामले में उचित कार्रवाई की जाएगी।

सबसे पहले आपको बता दें कि यह मामला Swaminarayan Sampradaya से ताल्लुक रखने वाले Sahjanand Girls Institute का है। इस इंस्टीच्यूट के छात्रावास में रहने वाली लड़कियों के लिए कुछ अलग नियम बनाए गए हैं। यहां के नियमों के मुताबिक जिस छात्रा को पीरियड आता है वो हॉस्टल के कमरे में नहीं बल्कि बेसमेंट में रहेगी। उन्हें रसोईघर में घुसने और पूजा करने की इजाजत नहीं है। पीरियड खत्म हो जाने तक उन्हें अकेले में रहना पड़ता है। इतना ही नहीं पीरियड आने वाली लड़कियों को क्लास में अंतिम बेंच पर भी बैठना पड़ता है।

Sanitary Pad मिलने पर हुआ बवाल: इस मामले में पीड़ित छात्राओं का कहना है कि बीते सोमवार को छात्रावास के बाहर स्थित उद्यान में एक Sanitary Pad मिला था। छात्रावास प्रबंधन को यह शक हो गया कि कॉलेज की ही किसी छात्रा ने यहां पैड फेंका है। यह काम किसने किया? यहीं जानने के लिए छात्राओं के साथ यह अमानवीय व्यवहार किया गया।

कपड़ा उतरवा की जांच: बताया जा रहा है कि पैड मिलने के बाद हॉस्टल की वार्डन ने यहां की प्रिंसिपल रिता रंगिया को सूचित किया। इसके बाद उनके आदेश पर सभी छात्राओं को एक कॉमन एरिया में बुलाया गया। इसके बाद प्रिंसिपल और कुछ अन्य शिक्षकों ने एक-एक कर छात्राओं को वॉशरूम में बुलाया और फिर उनके कपड़े उतार कर यह चेक किया गया किस छात्रा ने यह काम किया है?