देश / सिब्बल-आजाद को अठावले की सलाह, सालों तक सत्ता में रहेगी NDA, बीजेपी में आ जाएं

AajTak : Sep 02, 2020, 08:10 AM
Delhi: केंद्रीय मंत्री रामदास अठावले ने कहा है कि अगर राहुल गांधी अपनी ही पार्टी के नेता कपिल सिब्बल और गुलाम नबी आजाद पर आरोप लगा रहे हैं उन्हें बीजेपी में शामिल हो जाना चाहिए। हम उनका स्वागत करने को तैयार हैं। रामदास अठावले ने कांग्रेस के दोनों वरिष्ठ नेताओं को सलाह देते हुए कहा है कि एनडीए अभी सत्ता में लौटती रहेगी, और चूंकि कांग्रेस के सीनियर नेताओं पर बीजेपी के साथ मिलकर साजिश करने का आरोप लगा है इसलिए उन्हें ज्योतिरादित्य सिंधिया जैसा कदम उठाना चाहिए और बीजेपी में शामिल हो जाना चाहिए। 

बता दें कि कांग्रेस के 23 नेताओं ने पार्टी नेतृत्व की मांग करते हुए आलाकमान को चिट्ठी लिखी थी। इन नेताओं में गुलाम नबी आजाद और कपिल सिब्बल भी शामिल थे। बाद में यह बात सामने आई थी कि राहुल गांधी ने चिट्ठी लिखने वाले नेताओं पर बीजेपी से मिले होने की बात कही थी। इस पर कांग्रेस में बड़ा बवाल हुआ था। 

इस घटना का जिक्र करते हुए रिपब्लिकन पार्टी ऑफ इंडिया के अध्यक्ष रामदास अठावले ने समाचार एजेंसी एएनआई से कहा, " कांग्रेस अध्यक्ष के पद को लेकर विवाद है। राहुल गांधी ने सिब्बल, आजाद पर बीजेपी की ओर से काम करने का आरोप लगाया है। इसलिए, मैं सिब्बल और आजाद से अनुरोध करता हूं कि वे कांग्रेस से इस्तीफा दें। उन्होंने कांग्रेस का विस्तार करते हुए कई साल गुजारे हैं, लेकिन उन्हें बाहर निकलना चाहिए और बीजेपी में शामिल हो जाना चाहिए।"

अपनी तंज भरी कविताओं के लिए प्रसिद्ध अठावले ने कहा कि अगर इन नेताओं का कांग्रेस में अपमान किया जा रहा है तो उन्हें कांग्रेस वैसे ही छोड़ देना चाहिए जैसा ज्योतिरादित्य सिंधिया ने किया था, यहां तक ​​कि सचिन पायलट ने भी ऐसा ही किया, लेकिन वह समझौता कर लिए। कांग्रेस को स्थापित करने वाले लोगों को राहुल गांधी द्वारा दोष ठहराना गलत है।"

अठावले ने कहा कि बीजेपी के नेतृ्तव में अभी कई सालों तक एनडीए की सरकार रहेगी। उन्होंने उम्मीद जताई कि अगले लोकसभा चुनाव में एनडीए  350 से अधिक सीटें जीतेंगी। केंद्रीय सामाजिक न्याय राज्य मंत्री ने कहा कि बीजेपी आज जनता का प्रतिनिधित्व करती है। सभी जाति, संप्रदाय और धर्म के लोग इस पार्टी में शामिल हो रहे हैं। ये पार्टी आने वाले चुनावों में जीत हासिल करती रहेगी और कांग्रेस का सफाया करेगी।

Booking.com

SUBSCRIBE TO OUR NEWSLETTER