देश / दिल्ली में अपने आवास में हुई तोड़फोड़ को लेकर ओवैसी ने लोकसभा स्पीकर को लिखा पत्र

Vikrant Shekhawat : Sep 24, 2021, 03:10 PM
नई दिल्ली: AIMIM सांसद असदुद्दीन ओवैसी (Asaduddin Owaisi) ने दिल्ली में मौजूद अपने आवास में तोड़-फोड़ के मामले पर लोकसभा अध्यक्ष ओम बिरला (Om Birla) को पत्र लिखा है. ओवैसी ने इस मामले में सुरक्षा सुनिश्चित किए जाने की मांग की है. AIMIM सांसद असदुद्दीन ओवैसी ने लोकसभा अध्यक्ष को लिखे पत्र में नई दिल्ली में अपने आधिकारिक आवास पर तोड़फोड़ के मामले में हस्तक्षेप करने के लिए कहा है. उन्होंने लोकसभा अध्यक्ष से गुजारिश की है कि उनकी “बेहतर सुरक्षा” सुनिश्चित की जाए. साथ ही उन्होंने इस मामले को की विस्तृत जांच के लिए इसे विशेषाधिकार समिति के पास भेजने की भी मांग की है.

इससे पहले मंगलवार को दिल्ली पुलिस (Delhi Police) ने अशोक रोड पर मौजूद ऑल इंडिया मजलिस-ए-इत्तेहादुल मुस्लिमीन (AIMIM) के प्रमुख और हैदराबाद के सांसद असदुद्दीन ओवैसी के आधिकारिक आवास में तोड़फोड़ करने के आरोप में हिंदू सेना के पांच सदस्यों को गिरफ्तार कर लिया. यह घटना मंगलवार शाम को ही हुई थी. नयी दिल्ली क्षेत्र के पुलिस उपायुक्त दीपक यादव ने गिरफ्तारी के बाद कहा कि घटना में कथित संलिप्तता के लिए पांच लोगों को हिरासत में लिया गया है. पुलिस के अनुसार उन्हें घटना की सूचना शाम करीब पांच बजे मिली और वह तुरंत मौके पर पहुंचे.

उन्हें सबक सिखाने गए थे

एक वरिष्ठ पुलिस अधिकारी ने कहा था कि सार्वजनिक संपत्ति को नुकसान पहुंचाने के आरोप में हिंदू सेना के सदस्यों के खिलाफ संसद मार्ग थाने में मामला दर्ज किया गया है. सोशल मीडिया पर वायरल हुए एक वीडियो में हिंदू सेना के प्रदेश अध्यक्ष ललित कुमार को यह कहते हुए सुना जा सकता है कि वे ओवैसी के आवास पर उन्हें सबक सिखाने गए थे, क्योंकि वह अपनी रैलियों में हिंदुओं के खिलाफ बोलते हैं.

हिंदू विरोध बयानों से आहत

मंगलवार दोपहर करीब चार बजे हिंदू सेना के सदस्यों ने ओवैसी के आवास में तोड़फोड़ की. संगठन के राष्ट्रीय अध्यक्ष विष्णु गुप्ता ने कहा कि वे हैदराबाद के सांसद के कथित ‘हिंदू विरोधी’ बयानों से आहत हैं. गुप्ता ने कहा कि एआईएमआईएम प्रमुख लगातार हिंदू विरोधी बयान देकर सुर्खियों में रहते हैं और उनके खिलाफ उत्तर प्रदेश में मामला दर्ज किया जा चुका है. उन्होंने कहा कि हिंदू सेना ओवैसी से इस तरह के बयान न देने का अनुरोध करती है.

SUBSCRIBE TO OUR NEWSLETTER