चेन्नई / 2021 का चुनाव राजनीति में सबको चौंका देगा: रजनीकांत

Live Hindustan : Nov 21, 2019, 05:54 PM

सुपरस्टार रजनीकांत ने गुरुवार को कहा कि तमिलनाडु के लोग 2021 विधानसभा चुनाव में अपना करिश्मा दिखाएंगे और सबको आर्श्चयचकित कर देंगे। रजनीकांत ने हाल ही में राजनीतिक पार्टी मक्कल नीधि मय्यम के संस्थापक एवं उनके समकालीन कमल हासन का हाथ थामने की इच्छा जाहिर की थी।

अभिनेता ने यहां पत्रकारों से कहा कि गठबंधन से जुड़ी बातों और मुख्यमंत्री कौन बनेगा इस संबंध में निर्णय चुनाव के दौरान ही लिया जाएगा। उन्होंने निर्धारित चुनाव और उनमें मुख्य भूमिका अदा करने का स्पष्ट संकेत देते हुए कहा, ''2021 में तमिलनाडु के लोग शत प्रतिशत बड़ा करिश्मा करेंगे और राजनीति में सबको चौंका देंगे।''

AIADMK ने कमल हासन, रजनीकांत पर फिर किया कटाक्ष

तमिलनाडु में सत्तारूढ़ अन्नाद्रमुक (AIADMK) ने एक बार फिर अभिनेता रजनीकांत और कमल हासन पर निशाना साधते हुए कहा कि उनकी अलग-अलग विचारधारा को देखते हुए यह 'बिल्ली और चूहे के एक साथ रहने की तरह होगा। अन्नाद्रमुक के मुखपत्र 'नमातु अम्मा में एक आलेख में कहा गया कि रजनीकांत ने घोषणा की थी कि वह आध्यात्मिक राजनीति को आगे बढ़ाएंगे, जबकि हासन वाम समर्थक रूख के लिए जाने जाते हैं। 

हासन और रजनीकांत ने मंगलवार को राज्य के कल्याण के लिए साथ मिलकर काम करने का संकेत दिया, जिससे राजनीतिक तालमेल की अटकलें लगने लगी हैं। सबसे पहले, हासन ने सुपरस्टार रजनीकांत की उन टिप्पणियों का मंगलवार को समर्थन किया, जिसमें तमिलनाडु के मुख्यमंत्री के पलानीस्वामी के शीर्ष पद पर आने पर हैरानी जताई गई। हासन ने कहा कि यह 'आलोचना नहीं है बल्कि सच्चाई है।'

हासन ने यह भी कहा कि वह तमिलनाडु के कल्याण के लिए रजनीकांत के साथ हाथ मिलाएंगे। रजनीकांत ने भी इसी तरह के विचार जताए। अन्नाद्रमुक के कई नेताओं ने साथ मिलकर काम करने की इच्छा जताने के लिए उनकी आलोचना की। मत्स्य मामलों के मंत्री डी जयकुमार ने इसे 'मृग मरीचिका और 'भ्रम बताया।

मुखपत्र में बृहस्पतिवार के आलेख में खासकर हासन को निशाना बनाते हुए कहा गया कि फिल्म जगत में प्रतिद्वंद्विता में वह रजनीकांत से हार गए और उन्हें डर लगता है कि राजनीति में भी ऐसा होगा। आलेख में कहा गया, ''आध्यात्मिक राजनीति करने का इरादा रखने वाले रजनीकांत तर्कवाद और साम्यवाद की बातें करने वाले कमल हासन से हाथ मिला रहे हैं। यह ऐसा ही होगा कि बिल्ली और चूहा एक साथ रहे। इसमें कहा गया, ''समय आने पर रजनीकांत को सीख मिल जाएगी कि हासन के साथ संभावित भागीदारी सार्थक नहीं होने वाली।