दिल्ली आग / CM केजरीवाल ने दिए जांच के आदेश, मृतकों के परिजनों को 10-10 लाख के मुआवजे का ऐलान

News18 : Dec 08, 2019, 12:36 PM

नई दिल्ली | राष्ट्रीय राजधानी दिल्ली की अनाज मंडी (Anaj Mandi) में लगी आग से अबतक 43 लोगों की मौत हो चुकी है। 20 लोगों की हालत अभी भी गंभीर बताई जा रही है। अधिकारियों का कहना है कि मौत का आंकड़ा बढ़ सकता है। 59 लोगों को रेस्क्यू किया गया है। घटनास्थल का जायजा लेने के लिए दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल (CM Arvind Kejriwal) फिल्मीस्तान पहुंचे हैं। उन्होंने मृतकों के परिजनों के लिए 10 लाख रुपए के मुआवजे का ऐलान किया है। साथ ही घायलों के लिए एक लाख रुपए की घोषणा की है। अनाज मंडी में मीडिया से बात करते हुए सीएम केजरीवाल ने कहा, 'मैंने मजिस्ट्रेट इंक्वायरी का आदेश दिया है और सात दिन में रिपोर्ट देने की बात कही है।'

घटना की होगी जांच, दोषियों के खिलाफ कड़ी कार्रवाई

दिल्ली के खाद्य एवं नागरिक आपूर्ति मंत्री इमरान हुसैन ने अनाज मंडी क्षेत्र स्थित फैक्ट्री में लगी आग के मद्देनजर रविवार को कहा कि आग लगने की इस घटना की जांच की जाएगी और इसके लिए जिम्मेदार लोगों के खिलाफ कार्रवाई होगी। उन्होंने ट्वीट किया, 'यह दुखद घटना है। घटना की जांच की जाएगी और इसके लिए जो भी जिम्मेदार होगा उसके खिलाफ कार्रवाई होगी।'

दिल्ली का सबसे बड़ा रेस्क्यू ऑपरेशन

इस आग में घायल हुए लोगों का हिंदू राव अस्पताल, आरएमएल, लेडी हार्डिंग और एलएनजेपी में इलाज चल रहा है। घटनास्थल पर एनडीआरएफ की टीम पहुंच चुकी है। जानकारी के मुताबिक, आग लगने की यह घटना बैग बनाने वाली एक फैक्‍ट्री में हुई। अभी तक आग लगने की वजहों का पता नहीं चल सका है। कहा जा रहा है कि ज्यादातर लोगों की मौत दम घुटने के कारण हुई है। दमकल विभाग का कहना है कि यह दिल्ली का अब तक का सबसे बड़ा रेस्क्यू ऑपरेशन है।

पांच मंजिला इमारत में चलती थी फैक्ट्री

अग्निकांड के शिकार हुए लोगों को LNJP में इलाज के लिए लाया गया है। यहां परिजनों की भीड़ लग गई है। उन्‍होंने बताया कि डॉक्‍टरों की पूरी टीम घायलों के इलाज में जुटी है। वहीं, बताया जा रहा है कि गलियां संकरी होने की वजह से एंबुलेंस को मौके पर पहुंचने में कठिनाई का सामना करना पड़ा। मिली जानकारी के मुताबिक, जिस इमारत में आग लगी थी, वह यामीन के नाम पर है। इसमें कई फैक्ट्री चलती है। इनमें काम करने वाले मजदूर इसी घर में सो जाते थे। यह पांच मंजिला इमारत है। आग लगभग साढे चार बजे के आसपास लगी थी।