Vande Bharat Express / देश को मिलेगी आज 5वीं वंदे भारत, PM दिखाएंगे हरी झंडी, जानिए डिटेल्स

Zoom News : Nov 11, 2022, 10:27 AM
Vande Bharat Express: प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी देश को आज पांचवीं वंदे भारत एक्सप्रेस ट्रेन का बड़ा तोहफा देने जा रहे हैं. पीएम मोदी आज इस ट्रेन को हरी झंडी दिखाकर रवाना करेंगे. बता दें कि यह ट्रेन बेंगलुरु होते हुए चेन्नई से मैसुरु (Chennai-Bengaluru-Mysuru) जाएगी. यह दक्षिण भारत की पहली वंदे भारत एक्सप्रेस ट्रेन है. पीएम मोदी आज कर्नाटक के दौरे पर हैं. वे यहां कई Development Project लॉन्च करेंगे. इनमें दक्षिण भारत की पहली वंदे भारत एक्सप्रेस ट्रेन भी शामिल है. भारतीय रेलवे ने इस ट्रेन का टाइम टेबल (Chennai Mysuru Vande Bharat Time Table) भी जारी कर दिया है. यह ट्रेन करीब 483 किलोमीटर की दूरी तय करेगी. वहीं, जल्द ही उत्तर प्रदेश को उसकी दूसरी वंदे भारत एक्सप्रेस ट्रेन मिलने वाली है.

Vande Bharat Express चेन्नई सेंट्रल से सुबह 05 बजकर 50 मिनट पर रवाना होगी. जो कि 359 किलोमीटर की रफ्तार के साथ 10 बजकर 25 मिनट पर बंगलुरू सिटी जंक्शन पहुंच जाएगी. ट्रेन 5 मिनट के लिए जंक्शन पर रुकेगी और इसके बाद 10 बजकर 30 मिनट पर रफ्तार पकड़ेगी. यहां से 137.6 किमी रफ्तार के साथ वो अपने डेस्टिनेशन स्टेशन यानी कि मैसूर 12 बजकर 30 मिनट पर पहुंचेगी.

इसके बाद वापसी में मैसूर से चेन्नई ये ट्रेन दोपहर 1 बजकर 05 मिनट पर रवाना होगी और 2 बजे पर बंगलुरू पहुंचेगी. 5 मिनट रुककर 3 बजे ये बंगलुरू से चलेगी. इसके बाद 7 बजकर 35 मिनट पर ये ट्रेन चेन्नई पहुंच जाएगी. इस ट्रेन के केवल दो स्टॉपेज होंगे- बेंगलूरु और कटपड़ी. बता दें कि ये ट्रेन हफ्ते में 6 दिन चलेगी और बुधवार को नहीं चलेगी.

चेन्नई-मैसूर वंदे भारत एक्सप्रेस ट्रेन का किराया

बता दें कि चेन्नई-मैसूर वंदे भारत एक्सप्रेस ट्रेन के इकोनॉमी क्लास का किराया 921 रुपए तय किया गया है और एग्जीक्यूटिव क्लास के लिए इसका किराया 1880 रुपए तय किया गया है. वहीं मैसूर और बंगलुरू के लिए इस ट्रेन का किराया 368 रुपए और 768 रुपए क्रमश: होगा. भारतीय रेलवे ने यात्रियों को इस ट्रेन की ओर आकर्षित करने के लिए अभी किराया कम रखा है. जिससे यात्रियों को सस्ते दामों में अच्छी सुविधाएं मिल सकें.

ये है वंदे भारत एक्सप्रेस की खासियत

गति, सुरक्षा और सेवा इस ट्रेन की पहचान है. वंदे भारत एक्सप्रेस 160 किमी प्रति घंटे की अधिकतम गति तक चल सकती है और इसमें शताब्दी ट्रेन जैसी कोच हैं लेकिन यात्रियों के लिए बेहतर अनुभव है. गति और सुविधा के मामले में यह ट्रेन भारतीय रेलवे के लिए अगली बड़ी छलांग है. इसके अलावा, सभी कोच में ऑटोमेटिक डोर लगे हैं. जीपीएस आधारित ऑडियो-विजुअल यात्री सूचना प्रणाली, मनोरंजन प्रयोजनों के लिए ऑनबोर्ड हॉटस्पॉट वाई-फाई और बहुत ही आरामदायक बैठने की जगह के अलावा घूमने वाली कुर्सियां भी हैं.

इसके साथ ही इस ट्रेन के सभी कोचों में सभी शौचालय बायो-वैक्यूम प्रकार के हैं. साइड रिक्लाइनर सीट की सुविधा जो एग्जीक्यूटिव क्लास के यात्रियों को दी जा रही है, अब सभी क्लास के लिए उपलब्ध कराई जाएगी. कार्यकारी कोच में 180 डिग्री घूमने वाली सीटों की अतिरिक्त सुविधा है. ट्रेन में टच-फ्री सुविधाओं के साथ बायो-वैक्यूम शौचालय भी बने हुए हैं. प्रत्येक कोच में खाने-पीने की सुविधाओं के साथ एक पेंट्री है. प्रत्येक वंदे भारत एक्सप्रेस में कुल 1,128 यात्रियों के बैठने की क्षमता है.

सुरक्षा के मामलों में भी बेहतर है वंदे भारत

वंदे भारत 2.0 ट्रेनों में संचालन में सुरक्षा बढ़ाने के लिए कवच (ट्रेन कोलिजन अवॉइडेंस सिस्टम) लगा हुआ है. हर कोच में चार इमरजेंसी विंडो जोड़े जाने से सुरक्षा में सुधार होगा. पहले दो के बजाय कोच के बाहर रियरव्यू कैमरों सहित चार प्लेटफॉर्म साइड कैमरे लगे हुए हैं. ट्रेन के बेहतर नियंत्रण के लिए नए कोचों में लेवल-II सेफ्टी इंटीग्रेशन सर्टिफिकेशन है.

वंदे भारत 2.0 में सभी विद्युत कक्षों और शौचालयों में एरोसोल आधारित आग का पता लगाने के साथ बेहतर अग्नि सुरक्षा उपाय भी होंगे. ट्रेन में बिजली गुल होने की स्थिति में हर कोच में चार इमरजेंसी लाइटिंग भी होगी. वित्त मंत्री निर्मला सीतारमण ने घोषणा की है कि अगले तीन वर्षों के दौरान 400 नई पीढ़ी की वंदे भारत ट्रेनों का विकास और निर्माण किया जाएगा.

यूपी को मिलेगी दूसरी वंदे भारत ट्रेन

देश की पहली वंदे भारत एक्सप्रेस ट्रेन (Vande Bharat Express Train) दिल्ली से वाराणसी के बीच चलाई गई थी. यूपी को अब दूसरी वंदे भारत एक्सप्रेस ट्रेन की सौगात मिलने जा रही है. खुद रेल मंत्री (Railway Minister) अश्विनी वैष्णव ने इसकी घोषणा कर बताया कि नई वंदे भारत ट्रेन जल्दी ही सहारनपुर से दिल्ली ट्रैक पर दौड़ती नजर आएगी. उन्होंने बताया कि सहारनपुर से दिल्ली रूट पर वंदे भारत एक्सप्रेस चलाने के लिए ट्रैक को डेवलप किया जा रहा है, ताकि यह ट्रेन 150 किमी प्रति घंटे की रफ्तार से दौड़ सके और यात्रियों को जल्दी ही अपने गंतव्य स्थान पर पहुंचा सके.

Booking.com

SUBSCRIBE TO OUR NEWSLETTER