इंडिया / लोकसभा में बोले रक्षा मंत्री राजनाथ सिंह- संसद जैसा चाहे हम वैसा कानून बनाने को तैयार

Vikrant Shekhawat : Dec 02, 2019, 01:52 PM
नई दिल्ली: तेलंगाना गैंगरेप मर्डर मामले पर राज्यसभा के बाद लोकसभा में चर्चा हुई। रक्षा मंत्री राजनाथ सिंह ने कहा कि  संसद जिस तरह की कानून पर सहमत होगी हम वैसा कानून बनाने को तैयार है। वहीं। लोकसभा स्‍पीकर ओम बिरला ने कहा कि सदन इस प्रकार की घटना की निंदा करती है और जब भी जरूरत होगी इस पर चर्चा होगी। इसके लिए कानून में कोई बदलाव करने की जरूरत होगी तो वह भी की जाएगी। इससे पहले रक्षा मंत्री राजनाथ सिंह ने सरकार की तरफ से कहा कि संसद में हैदराबाद की घटना को लेकर जितनी देर बहस कराना चाहते हैं करें। इस पर कठोरतम कार्रवाई करने के लिए सरकार को जो भी करने की जरूरत होगी करेगी। राजनाथ सिंह ने कहा कि संसद जिस तरह की कानून पर सहमत होगी हम वैसा कानून बनाने को तैयार है।

लोकसभा में चर्चा के दौरान अपना दल की अनुप्रिया पटेल ने कहा कि हैदराबाद में जो घटना हुई उसकी पुलिस में रिपोर्ट कराने के लिए उसके परिवार वालों को काफी परेशान होना पड़ा। राज्‍य के मुख्‍यमंत्री को तीन दिन लगा इसके लिए जांच टीम को गठित करने में। अनुप्रिया पटेल ने कहा कि जब भी ऐसी घटना होती है हमलोग हरदम सदन में चर्चा करते हैं, ऐसी घटना की निंदा करते हैं और कठोर कार्रवाई की मांग भी करते हैं लेकिन कुछ होता नहीं है। उन्‍होंने कहा कि ऐसी घटनाओं को रोकने में राज्‍य सरकारें नाकाम हो रही है और केंद्र सरकार भी असफल रही है। इस मामले में ऐसी कार्रवाई होने चाहिए कि देश में कड़ा संदेश जाए।

वहीं, राज्यसभा में भी इस मामले पर चर्चा हुई। चर्चा के दौरान समाजवादी पार्टी की राज्‍य सभा में सांसद जया बच्‍चन ने कहा कि हैदराबाद में जिस तरीके के घटना हुई है उसमें शामिल लोगों को पब्‍लिक के हवाले कर देना चाहिए। जया बच्‍चन ने कहा कि जहां पर घटना घटी है उससे एक दिन पहले भी वहां ऐसी घटना हुई थी। उन्‍होंने कहा कि मुझे समझ नहीं आ रहा है कि उसके लिए उस क्षेत्र के सुरक्षा अधिकारी से जवाब क्‍यों नहीं मांगा गया? उसने अपने काम में लापरवाही बरती है। उससे निश्चित रूप से सवाल किया जाना चाहिए और जवाब लिया जाना चाहिए। जया बच्‍च्‍न ने कहा कि यह काफी कठोर व्‍यवहार होगा लेकिन इस तरह के लोगों को पब्लिक के हवाले कर देना चाहिए ताकि पब्‍लिक ही इसको सजा दे।

हैदराबाद में हुए रेप की घटना पर राज्‍यसभा में चर्चा जारी है। इस दौरान सांसदों ने इस घटना की जमकर भर्त्‍सना की और कहा कि ऐसे मामलों में फैसला जितनी जल्‍दी हो सके उतना अच्‍छा होगा। सांसदों ने निर्भया वाले मामले का भी जिक्र किया और कहा कि उस मामले के सात साल बाद भी उसके दोषियों को अभी तक फांसी पर नहीं लटकाया गया है। देर से मिला न्‍यास अन्‍याय के समान होता है। राष्‍ट्रीय जनता दल के सांसद मनोज झा ने इस घटना की निंदा करते हुए समाज में सुधार लाने पर बल दिया। उनका कहना था कि सबों की पुलिसिंग संभव नहीं है। एक जनमानस के मन की पुलिसिंग कैसे होगी। हमें समाज में जागरूकता लानी होगी। इस बीच दिल्‍ली सरकार ने निर्भया कांड में दोषी करार दिए गए विनय शर्मा की दया याचिका को खारिज कर दिया है। दिल्‍ली सरकार ने कहा है कि इसे जल्‍द से जल्‍द फांसी पर लटकाया जाए।

आम आदमी पार्टी के सांसद संजय सिंह ने कहा, सख्त कानून बना लेकिन उस पर अमल नहीं हो रहा है। निश्चित समय सीमा बनाकर उस पर अमल हो। आज तक निर्भया को न्याय नहीं मिला है। 

SUBSCRIBE TO OUR NEWSLETTER