देश / पार्थ चटर्जी अपने से ऊपर ममता को भी नहीं मानते, पूर्व TMC लीडर के दावे

Zoom News : Aug 05, 2022, 07:43 AM
New Delhi : पूर्व टीएमसी नेता बैसाखी बनर्जी ने पश्चिम बंगाल के पूर्व मंत्री पार्थ चटर्जी को लेकर कई चौंकाने वाले खुलासे किए हैं। उन्होंने दावा किया कि चटर्जी के कार्यकाल के दौरान लोगों को शिक्षण संस्थानों में डायरेक्ट एंट्री मिल गई। मालूम हो कि बैसाखी पश्चिम बंगाल कॉलेज एंड यूनिवर्सिटीज प्रोफेसर्स एसोसिएशन (डब्ल्यूबीसीयूपीए) की पूर्व महासचिव भी हैं। 

बनर्जी ने कहा, 'यह देखना अजीब लगता था कि साधारण बैकग्राउंड से आने वाले स्टूडेंट लीडर्स एजुकेशनल सेक्टर में पावरफुल और बड़े नाम बन जाते थे। पश्चिम बंगाल कॉलेज यूनिवर्सिटी प्रोफेसर्स एसोसिएशन (WBCUPA) के बीच एक सिंडिकेट काम कर रहा था जो यूनिवर्सिटी में हर एक पोस्ट बेचने के लिए थी और जिसकी कीमत लगाई गई थी। पार्थ चटर्जी के चलते ऐसे लोग सीधे विश्वविद्यालय में आ गए जो स्कूल में भी नहीं पढ़ा सकते थे।'

बैसाखी बनर्जी दावा करती हैं कि उन्होंने ये मामले पार्थ चटर्जी के सामने रखे लेकिन कोई फायदा नहीं हुआ। उन्होंने कहा, 'पार्थ चटर्जी की वजह से चोरों को जॉब मिल रही थी। मैंने कार्रवाई करने की कोशिश की, भ्रष्टाचार के आरोपी एक व्यक्ति को निलंबित किया और उन लोगों को डांट लगाई जो इसमें शामिल थे। कुछ दिनों के बाद मुझे समझ आया कि यह सब तो मुखौटा है। कुछ दिनों बाद वही लोग और अधिक शक्तिशाली तरीके से शिक्षा के क्षेत्र में वापस आने लगे। मैं समझ गई कि भ्रष्टाचार खत्म नहीं होगा और हालात और बिगड़ते चले गए।'

पूर्व TMC लीडर ने कहा, 'पार्थ चटर्जी अपने से ऊपर किसी को नहीं मानते, यहां तक कि पार्टी चीफ और मुख्यमंत्री ममता बनर्जी को भी नहीं। उन्होंने कई बार अपने पद का दुरुपयोग किया। पूरे शिक्षा विभाग को अपने नियंत्रण में ले लिया। उन्होंने सारा भ्रष्टाचार खुद के लिए किया।'

Booking.com

SUBSCRIBE TO OUR NEWSLETTER