विश्व / पाकिस्तान का प्रधानमंत्री होना कोई आसान बात नहीं, मेरी जगह आप होते तो आ जाता हार्ट अटैक: इमरान खान

News18 : Sep 25, 2019, 12:43 PM

न्यूयॉर्क. पाकिस्तान (Pakistan) का प्रधानमंत्री होना कोई आसान बात नहीं. ये बात खुद प्रधानमंत्री इमरान खान (Imran Khan) ने कही है. इमरान खान का मानना है कि वह इतने तनाव में गुजर रहे हैं कि उनकी जगह कोई और होता, तो बेशक हार्ट अटैक आ जाता. उनकी बातों से यह भी साफ हो गया है कि वह जो चाहते हैं, कई बार उसे भी नहीं कर पाते. पाकिस्तानी पीएम ने काउंसिल ऑफ फॉरिन रिलेशंस अफेयर्स के कार्यक्रम में मीडिया के सवालों का जवाब देते हुए ये बातें कही.

इन परेशानियों से जूझ रहे हैं इमरान खान

पाकिस्तानी मीडिया में प्रकाशित रिपोर्ट के अनुसार, पाकिस्तानी पीएम इमरान खान (Imran Khan) ने कार्यक्रम के एंकर से ये बातें कही. उन्होंने कहा, 'मैं क्या करूं एक तरफ अफगानिस्तान की समस्या चल रही है. ईरान की समस्या चल रही है. चीन भी चिढ़ा हुआ है. अब देखिए भारत के साथ भी दिक्कतें शुरू हो गई हैं. ऐसे में अगर आप भी मेरी जगह होते ना, तो आपको हार्ट अटैक आ जाता.'

इमरान खान ने कहा, 'पाकिस्तान के सामने इतनी गंभीर चुनौतियां हैं कि मैं परेशान रहता हूं. यह तो क्रिकेट खेलने के दौरान सीखे गए मुश्किल और कड़ी मेहनत के तौर तरीकों की वजह से मैं ठीक-ठाक हूं. खेल के दौरान मिली सीख से ही संभव हो सका है कि मैं दृढ़तापूर्वक इन चुनौतियों का सामना करने और इनसे निपटने की कोशिश कर रहा हूं.'

मेरे पास चीन की तरह पावर नहीं

पाकिस्तानी क्रिकेट टीम के पूर्व कप्तान इमरान खान की इस बात पर आयोजन में ठहाके लगे. हंसी-मजाक के बीच ही पाकिस्तानी प्रधानमंत्री एक बार फिर अपनी बेचारगी उस वक्त दिखा गए, जब उन्होंने कहा कि कुछ मामलों से निपटने के लिए उनके पास वह पावर नहीं है, जो चीन के शासकों के पास होती है.

उन्होंने कहा कि चीन हमारे लिए प्रगति की मिसाल है. उसने अपने करोड़ों नागरिकों को गरीबी से बाहर निकाला है. इमरान ने कहा, 'अगर मेरे पास भी उनके जैसे आदेश जारी करने की शक्ति हो, तो मैं भी देश से गरीबी और भ्रष्टाचार खत्म कर दूं.'

कश्मीर पर मध्यस्थता करे अंतरराष्ट्रीय समुदाय

इमरान खान ने कार्यक्रम में एक बार फिर अंतरराष्ट्रीय समुदाय से कश्मीर पर मध्यस्थता की गुहार लगाई. उन्होंने परमाणु संपन्न दो देशों के बीच टकराव का अपना पुराना राग अलापा. इमरान ने कहा कि भारत और पाकिस्तान दोनों परमाणु संपन्न देश हैं. दोनों देशों के बीच टकराव से पूरे दक्षिण एशिया पर असर पड़ेगा.