Bharat Jodo Yatra / आज MP बॉर्डर क्रॉस कर पहुंचेंगे राहुल गांधी राजस्थान

Zoom News : Dec 04, 2022, 09:00 AM
Bharat Jodo Yatra : राहुल गांधी देशभर में अब तक हुई भारत जोड़ो यात्रा के मुकाबले राजस्थान में ज्यादा चलेंगे। ऐसा हम इसलिए कह रहे हैं क्योंकि पिछले कुछ समय में राहुल गांधी की रोजाना यात्रा की दूरी बढ़ गई है। राहुल गांधी अब तक जहां औसतन रोजाना 25 से 30 किलोमीटर का सफर तय कर रहे थे। वहीं, अब राजस्थान में औसतन 35 किलोमीटर चलेंगे। राजस्थान में यात्रा के दौरान कुछ दिन तो ऐसे भी हैं, जहां 1 दिन में 40 से 50 किलोमीटर भी यात्रा करेंगे।


भारत जोड़ो यात्रा आज मध्य प्रदेश का बॉर्डर क्रॉस कर राजस्थान पहुंचेगी। राजस्थान में यात्रा की शुरुआत पूर्व मुख्यमंत्री वसुंधरा राजे के प्रभाव वाले जिले झालावाड़ से होगी। राहुल के यहां आने से लोगों में खासा उत्साह है। स्थानीय लोगों का कहना है कि इस जिले में कांग्रेस के राष्ट्रीय स्तर के नेता कम ही आते हैं।


कुल 520 किमी. की यात्रा

राजस्थान में राहुल गांधी की एंट्री से पहले हमने राहुल का रूट और उनकी वॉकिंग का दायरा देखा तो मालूम चला कि राजस्थान में राहुल गांधी 18 दिन में 520 किलोमीटर का सफर तय करेंगे। इन 18 दिन में से 1 दिन राहुल की राजस्थान में एंट्री का दिन है और 2 दिन यात्रा के विराम के रहेंगे। यानी राहुल गांधी 18 में से 15 दिन चलेंगे। इन 15 दिनों में राहुल गांधी राजस्थान में 493 किलोमीटर का सफर तय करेंगे। इनमें से आखिरी 15वें दिन राजस्थान में 8 किलोमीटर का सफर तय कर यात्रा हरियाणा चली जाएगी।


राहुल गांधी 4 दिसंबर को राजस्थान में प्रवेश करने के बाद राजस्थान-एमपी बॉर्डर पर ही नाइट स्टे करेंगे। यहां से अगले दिन 5 दिसंबर को वे यात्रा की शुरुआत करेंगे। पहले दिन राहुल गांधी 34.2 किलोमीटर चलेंगे। अगले 14 दिन में राहुल गांधी 485 किलोमीटर का सफर तय करेंगे। इस हिसाब से औसतन एक दिन का सफर 34.64 किलोमीटर का होगा। आखिरी दिन 21 दिसंबर की सुबह 8 किलोमीटर चलकर हरियाणा में प्रवेश कर जाएंगे।


11 दिसंबर को सबसे ज्यादा 49.6 किलोमीटर चलेंगे

राजस्थान में राहुल गांधी एक दिन में सबसे ज्यादा 11 दिसंबर को 49.6 किलोमीटर चलेंगे। इस दिन यात्रा केशवरायपाटन विधानसभा में बाजड़ली फाटक से शुरू होकर बबई के आजाद नगर तक का सफर तय करेगी। इसके अलावा 6 दिसंबर को 42.2 और 19 दिसंबर को 43.9 किलोमीटर का सफर होगा। ये 3 दिन ऐसे होंगे, जब राहुल 40 से ज्यादा किलोमीटर चलेंगे।


राजस्थान में राहुल गांधी की यात्रा राजस्थान में बीजेपी के गढ़ से शुरू होगी। यात्रा झालावाड़ जिले से राजस्थान में प्रवेश करेगी। यहां की झालरापाटन विधानसभा सीट से राजस्थान में घुसने के बाद यात्रा कोटा जिले में प्रवेश करेगी। यहां से बूंदी, कुछ हिस्सा टोंक, सवाई माधोपुर, दौसा और फिर अलवर जिले से होते हुए यात्रा हरियाणा में प्रवेश कर जाएगी। बता दें कि झालरापाटन पूर्व सीएम वसुंधरा राजे की सीट है।


झालावाड़ की एक भी सीट पर नहीं जीती कांग्रेस

राजस्थान में झालावाड़ ऐसा जिला है, जहां एक भी सीट पर कांग्रेस या निर्दलीय नहीं है। प्रदेश में कांग्रेस की सरकार होने के बावजूद इस जिले की चारों सीटों पर बीजेपी का कब्जा है। यहां झालरापाटन सीट से जहां खुद वसुंधरा राजे विधायक हैं। वहीं, डग से बीजेपी के कालूराम, खानपुर से नरेंद्र नागर और मनोहरथाना से बीजेपी के गोविंद प्रसाद विधायक हैं।


झालरापाटन में 4 चुनावों से नहीं जीती कांग्रेस

झालावाड़ में यात्रा सिर्फ झालरापाटन सीट से गुजरेगी। यह वो सीट है, जहां 1998 के बाद से कांग्रेस नहीं जीती है। पूर्व सीएम वसुंधरा राजे लगातार 4 बार से यहां से चुनाव जीत रही हैं। पिछले चुनाव में भी राजे लगभग 35 हजार वोटों से चुनाव जीती थीं। इसी तरह डग सीट पर कालूराम लगभग 20 हजार और मनोहर थाना से गोविंद प्रसाद लगभग 22 हजार वोट से जीते थे। सिर्फ खानपुर से नरेंद्र नागर का जीत का मार्जिन 2266 रहा था।


झालावाड़ में यात्रा से कांग्रेस को स्थापित होने की उम्मीद

झालावाड़ से भले ही यात्रा तय रूट के अनुसार निकल रही हो। लेकिन कांग्रेस इसे अपने लिए यात्रा के साथ-साथ राजनीतिक मौके के रूप में भी देख रही है। झालावाड़ में यात्रा के बहाने कांग्रेस खुद को मजबूत कर रही है। 2017 में सचिन पायलट ने बारां से झालावाड़ तक 100 किलोमीटर की यात्रा की थी। उसके अलावा यह क्षेत्र कांग्रेसी नेताओं से अछूता है, जबकि पूर्व सीएम वसुंधरा राजे यहां 2 बार यात्रा निकाल चुकी हैं।


झालावाड़ के स्थानीय नेताओं और लोगों का कहना है कि कांग्रेस झालावाड़ पर बिलकुल ध्यान नहीं देती है। यहां कांग्रेस के प्रमुख नेता आते तक नहीं। पहली बार राष्ट्रीय स्तर का कोई कांग्रेसी नेता यहां आ रहा है।


लोगों का कहना है कि 2019 के लोकसभा चुनाव में प्रचार के बाद अब तक सीएम अशोक गहलोत झालावाड़ नहीं आए हैं। लोगों का कहना है कि झालावाड़ में नेता सिर्फ चुनाव के वक्त आते हैं। ऐसे में राहुल का यहां से गुजरना कांग्रेस को नई ऊर्जा दे सकता है।


बीजेपी शासित 6 में से 5 विधानसभा सीट इसी क्षेत्र में

राहुल की यात्रा राजस्थान में जिन 18 विधानसभा सीटों से गुजरेगी। उनमें से 12 पर कांग्रेस काबिज है, जबकि 6 सीटों पर बीजेपी। खास बात यह है कि राहुल राजस्थान में प्रवेश करते ही जिन शुरुआती विधानसभा सीटों से गुजरेंगे, उनमें 6 में से 5 पर बीजेपी काबिज है।


राहुल झालरापाटन के बाद रामगंज मंडी, लाडपुरा, कोटा दक्षिण, कोटा उत्तर और केशवरायपाटन होते हुए आगे बढ़ेंगे। इन 6 में से सिर्फ कोटा उत्तर को छोड़ दिया जाए तो पांचों सीटों पर बीजेपी का कब्जा है। सिर्फ कोटा उत्तर से यूडीएच मंत्री शांति धारीवाल विधायक हैं।


लोगों में राहुल के आने से उत्साह, कांग्रेस मजबूत होगी

झालावाड़ और कोटा इलाके में लोगों में राहुल गांधी के आने से उत्साह है। यहां गांधी परिवार से कोई सदस्य कभी नहीं आया है।


ऐसे में राजनीतिक जानकारों का मानना है कि राहुल गांधी की यात्रा के इन इलाकों से गुजरने से कांग्रेस मजबूत होगी। कांग्रेस भी यात्रा की सफलता के साथ-साथ इसे अपने राजनीतिक मौके के रूप में देख रही है।


Booking.com

SUBSCRIBE TO OUR NEWSLETTER