GURUGRAM / जीएसटी नंबर देने के नाम पर घूस लेते दो अधिकारी गिरफ्तार, विजिलेंस टीम ने की कार्रवाई

Zoom News : May 10, 2022, 08:24 AM
बिल्डिंग मैटेरियल का कारोबार करने के लिए जीएसटी नंबर देने के नाम पर घूस लेने वाले दो अधिकारियों को राज्य चौकसी ब्यूरो की शाखा करनाल की टीम ने सोमवार को रंगे हाथ गिरफ्तार किया है। एक टीम ने गुरुग्राम के सेक्टर-34 स्थित जीएसटी कार्यालय में महिला इंस्पेक्टर सुमित्रा गोदारा को रंगे हाथ दबोचा। उसके बाद दूसरी टीम ने फरीदाबाद में दूसरे अधिकारी ईटीओ रोशनलाल को धर दबोचा। दोनों अधिकारियों के खिलाफ भ्रष्टाचार अधिनियम के तहत मामला दर्ज किया है।


कार्रवाई करने वाली विजिलेंस टीम के इंस्पेक्टर सुमित कुमार ने बताया कि फरीदाबाद में बिल्डिंग मैटेरियल सप्लायर का काम करने के लिए एक व्यक्ति ने जीएसटी नंबर के अप्रैल में आवेदन किया था। एक बार उसका आवेदन निरस्त होने के बाद उसने दोबारा से आवेदन किया। इसके साथ ही उसने फरीदाबाद में तैनात ईटीओ से मिला तो उन्होंने उसे गुरुगाम में तैनात इंस्पेक्टर सुमित्रा गोदारा से संपर्क करने की बात कही। रोशनलाल का कहना था कि सुमित्रा ही आपकी मदद करेंगी। वह उनके साथ पूर्व में काम कर चुकी हैं। जीएसटी नंबर हासिल करने के लिए क्या करना होगा, वह सब बता देंगी।


इसके बाद पीड़ित ने गुरुग्राम महिला इंस्पेक्टर से संपर्क किया। उसने बताया कि इस काम के सात लाख रुपये लगेंगे। एडवांस में दो लाख रुपया देना होगा। अन्य पैसा काम होने के बाद देना होगा। इसके बाद पीड़ित ने विजिलेंस के टोल फ्री नंबर पर संपर्क किया। साथ ही उसने यह निवेदन भी किया कि इस कार्रवाई को फरीदाबाद व गुरुगाम की टीम से न कराकर किसी अन्य जिले की टीम से कराया जाए।

डीजी विजिलेंस स्तर से इस कार्रवाई की जिम्मेदारी एसपी करनाल राजेश फौगाट को सौंपी गई। एसपी ने इसके लिए पानी की महिला इंस्पेक्टर सरोज और करनाल विजिलेंस इंस्पेक्टर सुमित कुमार को सौंपी। दोनों इंस्पेक्टरों की ओर से गुरुग्राम व फरीदाबाद में भ्रष्टाचारियों को दबोचने के लिए जाल बिछाया गया।


सबसे पहले गुरुग्राम में जीएसटी इंस्पेक्टर सुमित्रा गोदारा को दो लाख लेते हुए पानीपत की टीम ने रंगे हाथ दबोचा लिया। सुमित्रा की गिरफ्तारी के तत्काल बाद ही करनाल की दूसरी टीम ने फरीदाबाद से रोशनलाल को धर दबोचा। दोनों आरोपियों को विजिलेंस मुख्यालय गुरुग्राम लेकर आया गया। जहां पर उनके खिलाफ भ्रष्टाचार अधिनियम के तहत मामला दर्ज किया गया है। आरोपियों को मंगलवार को अदालत में पेश कर रिमांड पर लिया जाएगा।


आरोपियों को भ्रष्टाचार अधिनियम के तहत गिरफ्तार किया गया है। इनसे दो लाख रुपये रंगेहाथ बरामद किया गया है। रिमांड के दौरान घूस के लिए जिम्मेवार लोगों की जांच की जाएगी।

- राजेश फोगाट, एसपी, राज्य चौकसी ब्यूरो, करनाल

Booking.com

SUBSCRIBE TO OUR NEWSLETTER