नई दिल्ली / 4 साल में रेलवे ने तत्काल टिकटों से कमाए ₹25,000 करोड़ से अधिक: आरटीआई

Zoom News : Sep 01, 2019, 03:16 PM

भारतीय रेलवे के लिए तत्काल टिकट बुकिंग काफी फायदे का सौदा साबित हो रहा है। आरटीआई से हुए खुलासे के मुताबिक रेलवे के पिछले चार सालों में तत्काल टिकट बुकिंग से 25,392 करोड़ रुपए की कमाई की। नेशनल ट्रांसपोर्टर ने साल 2016 से 2019 के दरम्यान तत्काल कोटा टिकट से 21,530 रुपए और तत्काल प्रीमियम टिकट से 3862 रुपए की कमाई की है। इस कमाई में पिछले पीरियड के मुकाबले 62 प्रतिशत की बढ़ोत्तरी दर्ज की गई है।

1997 में पहली बार आया तत्काल टिकट बुकिंग सिस्टम

ईटी में छपी खबर के मुताबिक तत्काल बुकिंग को साल 1997 में कुछ चुनिंदा ट्रेनों में लागू किया गया था, जिसे साल 2004 में सभी ट्रेन टिकट में लागू कर दिया गया। तत्काल टिकट पर कुल टिकट का 10 प्रतिशत अतिरिक्त चार्ज किया जाता है, जबकि द्वितीय श्रेणी के टिकट के लिए यह 30 प्रतिशत हो जाता है। साल 2004 से कुल टिकट में से 50 प्रतिशत टिकट तत्काल कोट के तहत आरक्षित रखे जाते हैं।

देश के 2677 ट्रेनों में लागू तत्काल टिकट बुकिंग स्कीम

मौजूदा वक्त में तत्काल स्कीम देशभर की 2677 ट्रेनों में लागू है। रेल मंत्रालय के आंकडों के मुताबिक कुल 11.57 लाख उपलब्ध सीटों में से 1.71 लाख सीटें तत्काल टिकट बुकिंग स्कीम के तहत भरी जाती हैं। साल 2016-17 में तत्काल टिकट से कमाई 6,672 रुपए रही, जो कि अगले साल बढ़कर 6,915 हो गई। यह जानकारी मध्य प्रदेश के आरटीआई एक्टिविस्ट चंद्रशेखर गौर की ओर से मिली। वहीं साल 2016-17 से 2018-29 के दौरान तत्काल प्रीमियम टिकट बुकिंग की कमाई 62 प्रतिशत बढ़कर 1608 करोड़ रुपए हो गई।