IPL 2024 / हार्दिक पांड्या के वो 2 गलत फैसले, जिसके कारण मुंबई के हाथ से फिसली जीत

Vikrant Shekhawat : Mar 25, 2024, 12:15 PM
IPL 2024: ये 2022 सीजन की बात है जब आईपीएल में दो नई टीमें लॉन्च हुई थीं. इसमें से एक गुजरात टाइटंस ने स्टार ऑलराउंडर हार्दिक पंड्या को अपना कप्तान बनाया था. हार्दिक को तब मुंबई इंडियंस ने रिलीज कर दिया था और गुजरात ने उन्हें लपकते हुए कप्तानी सौंप दी. उस सीजन के दौरान हार्दिक ने एक इंटरव्यू में कहा था कि जैसे एमएस धोनी ने चेन्नई सुपर किंग्स में माहौल बनाया, वैसा ही वो गुजरात की टीम के लिए करना चाहते हैं. फिर 2023 में हार्दिक ने उन्हें प्लेइंग इलेवन में धोनी वाली भूमिका (लोअर ऑर्डर में फिनिशर) निभाने में कोई ऐतराज नहीं है. मुंबई इंडियंस के कप्तान के रूप में हार्दिक ने शायद यही कोशिश की लेकिन इसमें वो नाकाम साबित हुए.

आईपीएल 2024 के अपने पहले मैच में मुंबई इंडियंस को गुजरात टाइटंस के हाथों 6 रन से हार का सामना करना पड़ा. अहमदाबाद में खेला गया ये मैच लगभग मुंबई की पकड़ में ही था लेकिन इसके बाद भी 5 बार की चैंपियन टीम ने किसी तरह हाथ आए इस मैच को गंवा दिया. मुंबई इंडियंस का नया कप्तान बनने के बाद हार्दिक का ये पहला मैच था और पहले से ही कप्तानी मिलने के कारण फैंस का गुस्सा झेल रहे हार्दिक को अपने फैसलों के कारण और भी ज्यादा आलोचना सुननी पड़ रही है.

शुरुआत में ही कर दिया बड़ा ब्लंडर

अब सवाल है कि आखिर हार्दिक ने ऐसी क्या गलतियां की, जिसका खामियाजा उन्हें हार के रूप में भुगतना पड़ा? गुजरात टाइटंस को पहले ही सीजन में चैंपियन बनाने वाले हार्दिक ने मुंबई के कप्तान के रूप में दोनों पारियों में एक-एक बड़ी गलती की. शुरुआत गेंदबाजी से, जहां इसकी शुरुआत हुई. मुंबई की पहले गेंदबाजी थी और यहां इस टीम में जसप्रीत बुमराह जैसे दिग्गज तेज गेंदबाज थे, जो शानदार फॉर्म में चल रहे थे. इसके बावजूद हार्दिक ने पारी में गेंदबाजी की शुरुआत खुद की. पहला ओवर डालने आए हार्दिक की पहली ही गेंद पर चौका चला गया. इसके बाद दूसरा चौका भी आया और कुल 10 रन ओवर से निकले.

इसे गलती कहना सही नहीं होगा क्योंकि हार्दिक ने पिछले सीजन में कई बार गुजरात के लिए पहला या दूसरा ओवर डाला और असरदार साबित हुए थे. वैसे भी खुद पूर्व कप्तान रोहित शर्मा पिछले कुछ सीजनों में बुमराह से पहला या दूसरा ओवर नहीं करवा रहे थे. ऐसे में हार्दिक ने भी कुछ अलग नहीं किया. असल में गलती हार्दिक ने तीसरे ओवर में फिर से आकर की, क्योंकि पहले ओवर में उन्हें स्विंग नहीं मिल रही थी. इसके बावजूद वो दोबारा आए और फिर से 2 चौके समेत 10 रन खर्च दिए. ये रन ही आखिरकार मुंबई पर भारी पड़े. चौथे ओवर में बुमराह ने आकर विकेट चटका दिया था.

डर गए थे हार्दिक या बनना चाहते थे धोनी?

हार्दिक की दूसरी गलती बल्लेबाजी के दौरान देखने को मिली. मुंबई जीत की ओर बढ़ रही थी जब 16वें ओवर की पांचवीं गेंद पर डेवाल्ड ब्रेविस आउट हो गए. उस वक्त मुंबई को 25 गेंदों में 40 रनों की जरूरत थी और 6 विकेट बचे थे. हर किसी को यही उम्मीद थी कि हार्दिक पंड्या बैटिंग के लिए आएंगे क्योंकि गुजरात के लिए तो वो इससे भी ऊपर बैटिंग करते थे. वो नहीं आए और उन्होंने टिम डेविड को भेज दिया. अगले ही ओवर में आए राशिद खान ने डेविड और तिलक वर्मा को परेशान कर दिया और सिर्फ 3 रन खर्चे.

ये राशिद का आखिरी ओवर था. इसने ही हर किसी को हैरान कर दिया. पूर्व भारतीय पेसर इरफान पठान ने तो यहां तक आरोप लगा दिया कि हार्दिक को राशिद का सामना करने से डर लग रहा था और इसलिए उन्होंने डेविड को भेजा. इससे ये भी सवाल उठता है कि क्या हार्दिक यहां पर धोनी की तरह बिल्कुल आखिर में आकर मैच फिनिश करने की सोच रहे थे? उन्होंने 20वें ओवर में ये कोशिश की भी लेकिन नाकाम ही रहे. 4 गेंदों में 11 रन बनाने वाले हार्दिक अगर 16वें ओवर में खुद बैटिंग के लिए आते तो शायद मुंबई इंडियंस के लिए उनके कप्तानी करियर की शुरुआत जीत से होती.

SUBSCRIBE TO OUR NEWSLETTER