स्थानीय / Paper Out | अन्य केंद्रों पर 11:30 पर खत्म हो गई, राजकीय ITI में 12:30 बजे शुरू हुई परीक्षा

Zoom News

Aug 01, 2019, 01:51 PM

पीपाड़ शहर । कौशल विकास और उद्यमिता मंत्रालय के तत्वावधान में डीजीईटी द्वारा सम्पूर्ण देश मे एनसीवीटी आल इंडिया ट्रेड टेस्ट आईटीआई की सैद्धांतिक परीक्षाओं का आयोजन मंगलवार से विभिन्न केंद्रों पर हुआ। बुधवार को पीपाड़ शहर राजकीय आईटीआई में चार संस्थानों के 184 बच्चे परीक्षा के लिए ढाई घंटे पेपर का इंतजार करते रहे। बुधवार को इलेक्ट्रीशियन ट्रेड के थ्योरी पेपर का एग्जाम था। परीक्षा सुबह 10:00 बजे शुरू होनी थी परीक्षा समय डेड घंटे का था। छात्रों को 12:30 बजे परीक्षा में बिठाया गया तब तक शहर के अन्य केंद्रों पर चल रहे एग्जाम 11:30 बजे तक खत्म हो गए। जिस कारण छात्राओं को पहले ही पेपर मिल गया। केन्द्राधीक्षक से जब देरी का कारण पूछा तो केंद्र अधीक्षक देवेंद्र पुरोहित ने बताया कि सभी विषयों के पेपर दिल्ली द्वारा डाक के माध्यम से संबंधित बैंकों को भेजे जाते हैं। सोमवार को बैंक में जाकर सारे पेपर बडल वेरीफाई किए गए थे। जिसमें थ्योरी पेपर का बंडल नहीं था। जिसकी सूचना सोमवार को ही प्राविधिक शिक्षा निदेशालय परीक्षा शाखा जोधपुर को मेल द्वारा भेज दी गई थी। विभाग द्वारा उक्त सूचना डीजीईटी दिल्ली को भेजी गई ओर दिल्ली द्वारा उदासीनता व ढिलाई के चलते तीन दिनों में इस पर कोई ठोस कार्रवाई नहीं की गई। बुधवार को पेपर नहीं मिलने पर हंगामे के चलते विभाग द्वारा 9:30 बजे पेपर ई-मेल द्वारा भेजे गए। जिनको बाजार में फोटो कॉपी करवा कर बच्चों को वितरित किए। क्योंकि पेपर 14 पेज का होने के कारण इसमें अधिक समय लगा।

--जब तक परीक्षा शरू होती तब तक अन्य केंद्रों से बच्चे परीक्षा देकर वापस आ गए। छात्रो को एक घंटे before पेपर मिल गए।

परीक्षा अन्य सेंटरों पर निर्धारित समय 10:00 बजे शुरू होकर 11:30 बजे समाप्त हो गई। 12:30 बजे राजकीय आईटीआई में परीक्षाएं शुरू हुई। जिसके चलते सभी छात्रों को अन्य केंद्रों  से आए पेपर प्राप्त हो गए। परीक्षा की गोपनीयता पूरी तरह से भंग हो गई। निदेशालय की लेटलतीफी के चलते अन्य आईटीआई संचालकों में भी रोष देखा गया। जब सभी छात्राओं को पेपर मिल ही गए हैं तो फिर एग्जाम का क्या औचित्य।


--इनका कहना

पेपर नहीं मिलने की सूचना सोमवार को ही दिल्ली दे दी गई थी ।मगर फ्लाइट नहीं होने के कारण पेपर नहीं मिले। फोटोकॉपी के चलते देरी हुई। परीक्षा की गोपनीयता भंग हुई उसके लिए केंद्र अधीक्षक को पाबंद किया जाएगा।

धमेंद्र शर्मा

सहायक निदेशक परीक्षा प्राविधिक शिक्षा निदेशालय,जोधपुर