विश्व / बौखलाया पाकिस्तान | इमरान खान ने मलीहा लोधी को यूएन में स्थाई प्रतिनिधि के पद से हटाया

NavBharat Times : Oct 01, 2019, 10:25 AM

इस्लामाबाद | जम्मू-कश्मीर में अनुच्छेद 370 हटाए जाने के बाद बौखलाए पाकिस्तान ने कई कई देशों से मिन्नतें कीं और यूएन में भी मामला उठाया लेकिन उसे कहीं भाव नहीं मिला। अब अमेरिका दौरे से लौटने के बाद पाकिस्तानी प्रधानमंत्री इमरान खान ने यूएन में अपने स्थाई प्रतिनिधि को हटा दिया है। उन्होंने संयुक्त राष्ट्र न्यू यॉर्क में पाकिस्तान की स्थाई प्रतिनिधि मलीहा लोधी को हटाने का ऐलान कर दिया है। मलीहा की जगह मुनीर अकरम पाकिस्तान के प्रतिनिधि होंगे। यूएन में भाव न मिलने के बाद पाकिस्तान के विदेश मंत्रालय ने सोमवार को इसका ऐलान किया है।

बता दें कि यूनाइटेड नैशन की जनरल असेंबली में इमरान खान ने भड़काऊ भाषण दिया था। जम्मू-कश्मीर में अनुच्छेद 370 के हटाए जाने के बाद से इमरान खान कई देशों का दरवाजा खटखटा चुके हैं साथ ही यूनाइटेड नैशन में भी कई बार यह मुद्दा उठा चुके हैं लेकिन उन्हें मुंह की खानी पड़ी। 27 सितंबर के भाषण के बाद भी उन्हें किसी देश ने भाव नहीं दिया। यूएन से लौटने के बाद इमरान खान ने कई बदलाव किए हैं। माना जा रहा है कि मलीहा लोधी यूएन में पाकिस्तान के पक्ष में माहौल बनाने में सफल नहीं हुईं और इसीलिए उनको हटा दिया गया है।

बोरिस को बताया था ब्रिटेन का विदेश मंत्री

महिला लोधी ने इमरान की अमेरिका यात्रा के दौरान एक फोटो ट्वीट किया था जिसमें उन्होंने ब्रिटेन के प्रधानमंत्री बोरिस जॉनसन को विदेश मंत्री बता दिया था। जब लोगों ने ट्रोल किया तो मलीहा ने पो्ट डिलीट कर दिया। बाद में उन्होंने इसके लिए माफी भी मांगी थी लेकिन तब तक काफी देर हो चुकी थी।

फिलस्तीनी लड़की को बताया था कश्मीरी

कश्मीर का नाम आते ही पाकिस्तान के अधिकतर नेता होश खो बैठते हैं। मलीहा ने भी संयुक्त राष्ट्र में दावा किया था कि कश्मीरी लोगों पर भारत अत्याचार कर रहा था और सबूत के तौर पर उन्होंने झूठी तस्वीर पेश की थी। उन्होंने एक फिलस्तीनी लड़की को कश्मीरी बता दिया था लेकिन बाद में पोल खुल ही गई। इसके बाद उनकी काफी आलोचना हुई।

मलीहा लोधी फरवरी 2015 से संयुक्त राष्ट्र में पाकिस्तान की स्थाई प्रतिनिधि थीं। उनकी जगह लेने वाले अकरम पहले भी 6 साल यूएन में स्थाई प्रतिनिधि रह चुके हैं। गौरतलब है कि अमेरिका दौरे से वापस आने के बाद इमरान खान ने कबूला था कि कश्मीर मामले में उनका साथ देने वाला कोई नहीं है। यूएन में दिए अपने भाषण में उन्होंने मुस्लिम देशों को उकसाने की भी कोशिश की थी लेकिन वह नाकामयाब रहे। इमरान खान का कहना है कि भारत एक बड़ा बाजार है और इसीलिए कोई देश उनके साथ खड़े होने को तैयार नहीं है।

यूएन में इरान खान ने आरोप लगाए थे कि कश्मीरियों के साथ ज्यादती की जा रही है लेकिन भारत ने उन्हें अगले ही दिन आईना दिखा दिया। भारत की प्रतिनिधि ने दुनिया के देशों को बताया कि किस तरह पाकिस्तान अल्पसंख्यकों पर अत्याचार करता है।