विशेष / 10 मिनट में मुझे ट्रोल करना शुरू कर दिया, पिछले 5 साल में केजरीवाल सरकार ने प्रदूषण के लिए क्या किया: गौतम गंभीर

NDTV : Nov 18, 2019, 03:23 PM

नई दिल्ली | पूर्वी दिल्ली से सांसद और पूर्व क्रिकेटर गौतम गंभीर (Gautam Gambhir) दिल्ली में प्रदूषण (Delhi Pollution) पर होने वाली 15 नवंबर की मीटिंग में शामिल नहीं हुए थे। मीटिंग में न पहुंचने पर गौतम गंभीर की खूब आलोचना हुई थी। उनके गुमशुदगी के पोस्टर लगाए गए। इन पोस्टर के नीचे लिखा गया है कि क्या आपने इन्हें कहीं देखा है? आखिरी बार इन्हें जलेबी खाते हुए इंदौर में देखा गया था। पूरी दिल्ली इन्हें ढूंढ रही है। अब गौतम गंभीर ने ट्रोलिंग पर जवाब दिया है। 

उन्होंने कहा, ''अगर मेरा जलेबी खाने से दिल्ली का प्रदूषण बढ़ता है तो मैं हमेशा के लिए जलेबी खाना छोड़ सकता हूं। 10 मिनट में मुझे ट्रोल करना शुरू कर दिया। अगर इतनी मेहनत दिल्ली के प्रदूषण को कम करने में की होती तो हम सांस ले पाते।''

साथ ही उन्होंने कहा, ''अगर मैं प्रदूषण को लेकर सीरियस नहीं रहूंगा तो दिल्ली में मेरी ढाई और 5 साल की बच्ची रहती है और मैं ही नहीं, सारी दिल्ली की जनता, जिनके बच्चे दिल्ली में रहते हैं। सभी लोग चिंतित हैं, सिर्फ आम आदमी पार्टी को छोड़कर। मैं केजरीवाल जी से पूछना चाहता हूं कि पिछले 5 साल में उन्होंने प्रदूषण के लिए क्या करा है, जिससे प्रदूषण कम हुआ।''

शहरी विकास मंत्रालय से जुड़ी संसद की स्थायी समिति की एक बैठक को इसलिए रद्द करना पड़ा था क्योंकि कई सांसद और अधिकारी इस बैठक में पहुंचे ही नहीं थे। बैठक में दिल्ली-एनसीआर में वायु प्रदूषण के मुद्दे पर चर्चा होनी थी सांसद जगदंबिका पाल संसद की इस स्थायी समिति के अध्यक्ष हैं। 

बताया जा रहा है कि यह बैठक पार्लियामेंट एनेक्सी में सुबह 11:00 बजे होनी थी। लेकिन हेमा मालिनी और गौतम गंभीर, जो इस स्थाई समिति के सदस्य हैं, वे बैठक से नदारद रहे। गौतम गंभीर इंदौर में चल रहे भारत बांग्लादेश के टेस्ट मैच में कमेंट्री कर रहे थे।