लाइफस्टाइल / अधिक लिपस्टिक बिक रही है मतलब मार्केट में मंदी है, जानें क्या है लिपस्टिक इंडेक्स

Zoom News : Aug 29, 2019, 03:09 PM
यदि बाजार में कोई चीज अधिक खरीदी जाती है तो मतलब मंदी का माहौल है। ऐसा सोचना अर्थशास्त्र के नियमों के विपरीत नजर आता है, लेकिन यह सही नहीं है। लिपस्टिक प्रोडक्ट ऐसा भी है जो अधिक बिकता है तो मार्केट में मंदी आती है। आपको यह जानकर हैरानी होगी, लेकिन हैरानी दूर करने के लिए पढ़नी चाहिए यह खबर

इन दिनों देश में मंदी के हालातों पर राजनीतिक ​और आर्थिक विशेषज्ञों के बयानों से समाचार जगत कन्फ्यूज है। परन्तु देश में लिपस्टिक की हो रही बम्पर बिक्री इस ओर इशारा कर रही है कि अर्थव्यवस्था मंदी की ओर है। देश में लॉरिआल और लैक्मे जैसे ब्राण्ड की लिपस्टिक दोगुने अंकों की तेजी से बढ़ रही है। हालांकि कास्मेटिक उद्योग के लिए यह बात खुशी की हो सकती है। परन्तु लिपस्टिक इण्डेक्स को देखें तो लगता है ​मार्केट सुस्त है। इससे साबित हो रहा है कि उपभोक्ता कम पैसों में संतुष्टि देने वाले सामान खरीद रहा है।
क्या है लिपस्टिक इंडेक्स
लिपस्टिक इंडेक्स की मानें तो लेडीज मंदी के दौरान कपड़ों और अन्य महंगे फैशन उत्पादों की अपेक्षा लिपस्टिक पर अधिक खर्च करती हैं। वे ऐसा करके पैसा भी बताती हैं और अपनी शॉपिंग की आदतों को भी कायम रखती हैं। 
2002 में सामने आया था यह शब्द
इस शब्द का सबसे पहले प्रयोग एस्टी लॉडर के पूर्व चेयरमैन लियोनार्ड लॉडर ने 2000 की आर्थिक मंदी में कंपनी की कॉस्मेटिक बिक्री में हुई बढ़ोतरी को समझाते हुए किया था। यही वजह है कि भारत में उपभोक्ता इस वक्त गाड़ी या अन्य उपभोग की वस्तुओं की खरीद को टाल रहे हैं, लेकिन लिपस्टिक जैसी छोटी विलासिता वस्तुएं खरीदी जा रही हैं। लैक्मे ऑनर HUL की उपाध्यक्ष प्रभा नरसिम्हन के अनुसार कलर कॉस्मेटिक सुस्ती से अछूत है, इसके पीछे एक कारण यह भी है कि कंज्यूमर यूसेज अभी भी कम है। जैसे-जैसे महिलाएं ब्रैंड्स के प्रति जागरूक हो रही हैं, वे अपग्रेड होना चाहती हैं। इस मांग बढ़ने के बाद सभी ब्राण्ड अधिक शेड्स भी उतार रहे हैं। 
दुगुनी हो गई बढ़ोतरी
लॉरिआल के डायरेक्टर (कंज्यूमर प्रॉडक्ट्स डिविजन) असीम कौशिक के अनुसार बढ़ोतरी दुगुनी हो गई है। उन्होंने कहा कि एक महिला की दराज में आप लिपस्टिक और पाउडर जरूर पाएंगे।' टॉप ब्यूटी रिटेलर नयका के मुताबिक कंज्यूमर मेकअप पर लगातार खर्च कर रहे हैं। नयका के चीफ बिजनस ऑफिसर निहिर पारिख ने कहा, 'हमारे लिए बिजनस पहले की तरह चल रहा है। 6-12 महीनों में ग्रोथ में कोई बदलाव नहीं होगा।'