तन्हाजी: द अनसंग योद्धा

Jan 10, 2020
कॅटगरी ड्रामा इतिहास,सारांश
निर्देशक ओम राउत
कलाकार अजय देवगन,काजोल,सैफ अली खान
रेटिंग 4/5
निर्माता अजय देवगन,कृष्ण कुमार,भूषण कुमार
संगीतकार अजय-अतुल,सचेत-परम्परा
प्रोडक्शन कंपनी आमिर खान प्रोडक्शंस

साल 2020 के दूसरे सप्ताह में रिलीज होने जा रही 'तानाजी : दअनसंग वाॅरियर' बॉक्स ऑफिस पर अच्छी फिल्म साबित हो सकती है। इतिहास में रुचि रखने वाले दर्शकों को यह फिल्म जरूर देखना चाहिए। फिल्म की कहानी कुछ इस तरह है कि तानाजी मालुसरे के पिता मुगलों के खिलाफ लड़ते है और अपने आखिरी समय में बेटे तानाजी यानी अजय देवगन को मिट्टी की आजादी का कर्ज छोड़ जाते हैं।

ऐसी है मराठा योद्धा की दमदार कहानी

तानाजी, छत्रपति शिवाजी महाराज के अच्छे दोस्त और वीर योद्धाओं में से सबसे ज्यादा चहेते होते हैं। एक तरफ तानाजी के बेटे की शादी तय हो चुकी होती है, जिसका निमंत्रण वे शिवाजी को देने जाते हैं। वहां पता चलता है कि स्वराज के खिलाफ कोंढणा फतेह करना जरूरी है क्योंकि औरंगजेब द्वारा उदय भान कोंढाणा का नया किलेदार के रूप में शासन करने के लिए जाता है।

तानाजी के सामने बेटे की शादी और दूसरी तरफ स्वराज के लिए लड़ाई में से एक को चुनना होता है। वे युद्ध को चुनते हैं। क्योंकि स्वराज से बढ़कर उनके लिए कुछ भी नहीं होता है। इसलिए वह लड़ाई पर निकल जाते हैं। आगे फिल्म देखने के बाद रोमांचक लड़ाई और हार जीत के बारे में पता चलेगा।

फिल्म में अभिनय की बात की जाए तो अजय देवगन, काजोल सैफ अली खान और शरद केलकर का काम काफी सराहनीय है। हां कुछ जगह सैफ अली खान अजय पर भारी पड़ते नजर आते हैं। अजय की एक बात यह भी खटकती है कि उनकी उम्र एक वीर योद्धा के रूप में कुछ ज्यादा नजर आती है। आवाज के धनी शरद केलकर की बात की जाए तो शिवाजी के रोल में हुए एकदम फिट बैठते हैं और उनका अभिनय संवाद अदायगी का लहजा बेहतरीन है।

फिल्म में सबसे मजबूत पक्ष तकनीक का है। यही फिल्म 3D में बनी है। 3D के लिहाज से  देखा जाए तो  तीर तलवार बाजी के कुछ सीन बड़े  रोचक बन पड़े हैं। फिल्म देखते समय कहीं-कहीं तो ऐसा लगता है कि तीर अपनी आंखों की तरफ बढ़ती आ रही है, जो पलकों को छपकने के लिए मजबूर करती है। एक बड़ी बात यह भी है कि  इस पूरे वीएफएक्स को  इंडिया में शूट किया गया है। मराठी फिल्मों के निर्देशक ओम राऊत की बॉलीवुड में तानाजी पहली फिल्म है। अपने निर्देशन से एक्शन सहित हर पहलू को बखूबी के साथ फिल्म आने में हुए कामयाब दिखाई देते हैं। बची-खुची कसर सपोर्टिंग एक्टर पूरी करते नजर आते हैं। इसे 5 में से कम से कम साढे तीन स्टार दिया जा सकता है।